वैश्विक हुआ फिरंगी संस्कृति का रोग ! (HIV Test, AIDS Baby, NO French Kissing)

विगत 27 जून 2011 को अमेरिका में राष्ट्रीय ' एच आई वी   एड्स   जांच   दिवस ' मनाया गया,  जिसकी   शुरुआत 'नेशनल  असोशिएसन ऑफ...

विगत 27 जून 2011 को अमेरिका में राष्ट्रीय 'एचआईवी एड्स जांच दिवस' मनाया गया,  जिसकी शुरुआत 'नेशनल असोशिएसन ऑफ़ पीपुल विद एड्स' (National Association of People With AIDS) की पहल पर की गई! 

बतला दें, 1980 के दशक में इसे फिरंगी संस्कृति का रोग कहा था हमने जनसत्ता में प्रकाशित एक अग्रलेख में. ज़ाहिर है इतना बढ़िया हेडिंग (शीर्षक) इस आलेख का प्रभाष जोशी ही रच सकते थे. मुझे याद है जोशी जी ने इस आलेख में एक पैरा -खुद भी जोड़ा. हमारे जैसे तब नौसिखिए के लिए यह अतिरिक्त प्रोत्साहन था, स्नेह थाअब एच आई वी एड्स आलमी (भूमंडली कृत) संस्कृति का रोग बन गया है, इसलिए आगामी वर्षों से जांच दिवस को भी आलमी स्तर पर लिया जाना चाहिए. सिर्फ अमरीकी राष्ट्रीय एच आई वी जांच दिवस के रूप में नहीं

अमरीका ने इसके (जांच) लिए एक प्रोत्साहन (प्रलोभन) दिया है, जो जांच कराएगा उसे जुलाई 31 का 'हिप होप कंसर्ट' का मुफ्त में टिकिट दिया जाएगायहाँ लोग संगीत के शौक़ीन हैं, जाते हैं, ऐसे प्रोग्रेम्स का क्रेज़ रहता है लोगों को

जो लोग बा-खबर नहीं है और एच आई वी एड्स पोजिटिव हैं वे ही इस सिंड्रोम के सबसे ज्यादा ताकतवर ट्रांस-मीटर हैंसेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के मुताबिक़ अमरीका में आज भी हर बरस इस सिंड्रोम से 17,000 लोग मर जाते हैं

जांच के लिए न्यूनतम उम्र जानिएगा: 
लड़कों के लिए जब वह पहली मर्तबा अपनी शेव (दाढ़ी) बनाएं और लड़कियों के लिए जब वह अपनी पहली ब्रा (अन्तःवस्त्र, चोली) पहने. इन्हें अपनी हर निर्धारित शेड्यूल्ड विज़िट पर जांच के लिए आगे आते रहना चाहिए. रूकिए, नशीली ड्रग्स के मुरीदों के लिए भी यह लाजिमी है

दो किस्म की जांच उपलब्ध हैं:
एच आई वी वाईरस
पहली जांच के तहत उन संभावित एंटी-बॉडी की टोह ली जाती है जो आपके खून में संक्रमित होने के 3-6 महीना बाद ही पकड़ में आती हैं. यह सोर्बेंट या लेटेन्ट पीरियड होता है. आप संक्रमित रहते हैं और आपको खबर नहीं रहती. औरों के लिए आप 'एचआईवी एड्स बम' बने रहते हैं.

दूसरा परीक्षण "वायरल लोड टेस्ट" है जो आपके खून में एचआईवी की किस्म 1 और किस्म 2 के होने की इत्तला देगा. भले आप कल ही इन्फेक्ट (संक्रमित हुए हों).
The results from test can take a couple of weeks to come back.

एच आई वी वाईरस के चपेट में आने के कई ज़रिये हैं:
(1)-सुरक्षित यौन सम्बन्ध किसी भी संक्रमित व्यक्ति के साथ
(2) एक से ज्यादा लोगों के साथ फिरंगी होना
(3) शोट्स लेना एक ही सुईं -सिरिंज से
(4) प्रदूषित ड्रग एक्यूप-मेंट्स का स्तेमाल करना
(5) बचावी चिकित्सा उपाय बरतने पर संक्रमित माँ से बच्चे को मिल सकती है
(6) प्रसव के दौरान भी यह संक्रमण माँ से नवजात को हो सकता है
(7) स्तन पान भी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के मुताबिक संक्रमित माँ से नवजात तक इस संक्रमण को पहुंचा सकता है
(8) यौन संचारी रोगों की गिरिफ्त में आन

एड्स बेबी: आई अलाऊ एचआईवी टू लिव विद मी (AIDS baby: I allow HIV to live with me).
बेशक अपने आप को इस संक्रमण से बचाना चाहिए लेकिन 'रोगभ्रमी' (Hypochondriac) होने की हद तक नहीं
हमारी हवा, पानी, कीट, लार, आंसू, पसीना, हाथ मिलाने तथा क्लोज्ड 'माउथ किसिंग' (Deep Kissing नहीं) से यह संक्रमण आगे नहीं जाता है

NO French Kissing!

There is small chance of transmission through 'French Kissing' if the HIV infected persons mouth or gums is bleeding.

सरकारी प्रोत्साहन और दिशा के चलते 2007 -2010 के बीच अमरीका में 18,000 नए मामले आगे आयेसरकार ने दो दर्ज़न से ज्यादा स्वास्थ्य विभागों को अनुदान मुहैया करवाया एचआईवी जांच के लिए। हमें उम्मीद है भारत भी यह मोड्यूल अगले वर्ष से अपनाएगा। सम्बन्धित एनजीओ और सरकारी प्रतिष्ठान कृपया ध्यान दें! 

अगर आपको 'साइंस ब्लॉगर्स असोसिएशन' का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

COMMENTS

BLOGGER: 22
  1. bahut sundar jankari

    vah keya bat hai

    ReplyDelete
  2. वीरेन्‍द्र जी, देर आयद दुरूस्‍त आयद तर्ज पर यह पोस्‍ट निहायत उपयोगी है। समय समय पर आज की युवा पीढी को चेताते रहना भी जरूरी है।

    ReplyDelete
  3. Are you sure abt this?

    (2) एक से ज्यादा लोगों के साथ फिरंगी होना।

    Kaise? Even if no body is infected?

    Please elaborate.

    ReplyDelete
  4. योगेश भाई, आप भी कभी-कभी....

    अरे भई, आपको इतना तो पता है कि ये रोग शारीरिक संसर्ग द्वारा फैलता है। तो यदि आप एक से अधिक लोगों के साथ शारीरिक सम्‍बंध बनाते हैं, तो यदि उनमें से किसी को भी इसका इनफेक्‍शन हुआ होगा, तो वह आप तक भी आ पहुंचेगा। ऐसे में एक साथी की तुलना में एक से ज्‍यादा लोगों के सथ फिरंगी होना खतरनाक हुआ कि नहीं?

    ReplyDelete
  5. zakir bhai....
    Yaar its abt chances....nt the reason...

    As it apears after reading the post...

    Ek se zyada logo se firangi hone se aids hota hai......thats not true na.....though probability of getting that disease increases....

    ReplyDelete
  6. Yogesh bhai ,there is a window period in which the virus remains latent ,this differs for person to person ,may run from 6months to any length of time .But all the same the person carrying the virus remains a potent source of infection .In USA there is a battery of whites who live with it without hurt .That probably is a live source that may supply the vaccine some day .

    ReplyDelete
  7. Yogesh Bhai HIV has Two starins HIV1,HIV2,both are known about their notoriety.Both these viruses are a turn coat .They enter the T -cells ,Increase their load ,and explodes the cell ,leaving unhurt just to penetrate another T-cell .They change their protein coat and hence it is difficult to produce a vaccine against these cousins .A person With the virus is known as the carrier and He?She becomes a most potent Biological weapon .The virus can penetrate the latex (condom )unless it is soaked in a spermicide cream .hence the scare in the medical community .They wear special gloves while handling blood products ,or an infected person during surgery .So it is innocent to assume that having living together arrangements outside the wedlock is a fun and harmless activity .

    ReplyDelete
  8. आदमी मज़े में मौत को भूल जाता है।
    फ़िरंगी हो या जंगी, अंजाम भूल जाता है।।

    शुक्रिया !
    समलैंगिकता और बलात्कार की घटनाएं क्यों अंजाम देते हैं जवान ? Rape

    ReplyDelete
  9. वीरू भाई राक्स!राक्षस संस्कृति से आगाह करने के लिए शुक्रिया !

    ReplyDelete
  10. वीरू भाई को यहाँ देख अच्छा लगा !
    एक बहुत उपयोगी लेख है ...इस श्रंखला को आगे बढाते हुए लोगों को खतरे से बचने के दूसरे उपाय भी सुझाइयेगा !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  11. सतीश जी यही एक अकेला सिंड्रोम है ,रोग समूह है जो हमारी रोग रोधी कुदरती व्यवस्था को नाकारा करके संक्रमण के प्रति हमारे शरीर का हर द्वार खोल देता है .अच्छी बात यही है इस सिंड्रोम से बचे रहा जा सकता है .परम्परा गत दाम्पत्य प्रेम सम्न्धों के प्रति एक निष्ठ और प्रति -बद्ध होकर .राक्ताधान करते कराते सावधानी बरती जाए ,सुइयां नीम हकीमों से न लगवाईं जाएँ .भिवानी राजकीय महा -विद्यालय में पढाता था उन दिनों ,डेली पेसंज्री की रोहतक -भिवानी के बीच .एक ऐसे नीम हकीम के बारे में पता चला जो सुईं लगाते वक्त ,ब्लाउज के ऊपर से ही मसल तक सुईं पहुंचा देता था एक ही सिरिंज लिए घूमता आदिम .मेले ठेलों में बाल बनवाने मान्यताओं के अनुसार नीम -नाइयों -नायनों के पास नौनिहालों को मुंडन के लिए न ले जाया जाए .आधुनिक ब्यूटी सैलून्स भी संक्रमण की स्रोत बन सकतें हैं .गुणवत्ता पर यहाँ इस इलाके में कोई नियंत्रण नहीं है .तेतूइन्गभी एहतियात मांगती है .एक्यु -पंचर की सुइयां भी देखें भालें .

    ReplyDelete
  12. सतीश सक्सेना जी दांतों के डॉ के पास पहुँचने के बाद देखिए दस्ताने दिस्पोज़ेबिल आपके लिए नए पहने हैं उसने या नहीं ,पूछ सकतें हैं इस बाबत आप .साफ़ सफाई और साख देख कर ही दांतों के डॉ के पास पहुंचे .बेशक ट्रक ड्राइवर्स ,घर से दूर दिहाड़ी कमाते लोग जो परिवार से दूर रहतें हैं ,सेक्स कर्मी ,हाई रिस्क ग्रुप हैं लेकिन अब यह अंतर करना फ़िज़ूल ही लगता है लिविंग टुगेदर के इस बदलते दौर में .अलबता मरीज़ जिसमे इस सिंड्रोम के लक्षण प्रगटित होने हैं मरीज़ ही है कोई भूत नहीं है ,और ज़रूरी नहीं है वह इसके लिए सीधे उत्तरदाई भी हो ,हो भी तो क्या ,सामाजिक तिरस्कार खुद समाज के लिए खतरनाक हो सकता है एच आई वी एड्स मरीजों का ,हो भी रहा है .लोग सामने नहीं आतें हैं .बदला भी लेतें हैं .
    यहाँ भी सकारात्मक सोच और खुराक के साथ नियमित व्यायाम व्यक्ति के इम्यून -सिस्टम का मददगार बनके आता है .

    ReplyDelete
  13. Children's Health

    Children's Health

    Triathlon Challenge

    Triathlon Challenge

    Sleep

    Sleep

    Sex and You

    Sex and You

    Expert Doctor Q&A

    Expert Doctor Q&A

    Brain and Behavior

    Brain and Behavior

    Cancer

    Cancer

    Healthy Eating

    Healthy Eating

    Psychology

    Psychology
    Next
    RSS
    July 17th, 2011
    02:00 AM ET
    Share
    Comments (19 comments)
    Permalink
    Researchers believe they may be a step closer to HIV vaccine

    Researchers are hoping they are one step closer to a HIV vaccine – using HIV. At the 6th International AIDS Society Conference on HIV Pathogens, Treatment, and Prevention in Rome, researchers with the Maryland-based VirxSys Corporation announced the findings of their VRX1273 vaccine.

    The vaccine is a genetically altered version of SIV, the version of HIV found in non-human primates. Over the course of six months, five infected monkeys were injected with the vaccine three times, while five others were given a placebo vaccine. After 18 months, it was found that 40% of the vaccinated monkeys had very low to undetectable amounts of virus in their bodies.

    “We are well on the path to a functional cure, at least in monkeys,” says Laurent Humeau, VirxSys vice president of research and development.

    “Although this pre-clinical study is modest in terms of size, it is highly unusual to see near non-detectable levels of the virus not only circulating in the blood, but also in the reservoirs where HIV is known to replicate,” said Joep Lange, M.D., Ph.D., professor of medicine at the Academic Medical Center, University of Amsterdam, and head of the Amsterdam Institute of Global Health and Development.

    In the monkeys, the vaccine’s effect was sustained two years after the initial vaccination, without the need for any booster shots.

    Other researchers have created similar type therapeutic vaccines. In May, Dr. Louis Picker of the Oregon Health and Science University’s Vaccine and Gene Therapy Institute announced a vaccine successful in preventing monkeys from acquiring SIV. Like the VirxSys vaccine, this was a genetically altered virus. In this case, the altered virus was CMV, from the herpes family.

    But making the leap from monkeys to humans is a big step. Therapeutic vaccines "have looked really good in monkeys – but monkeys are not people and SIV is not HIV," said Dr. Anthony Fauci, director of the National Institute of Allergy and Infectious Disease. "Really good concepts in primates have been duds in people.”

    Unlike many antiretroviral drugs on the market, a therapeutic vaccine such as VRX1273 has the potential to be a cost effective way of dealing with HIV. Unlike drugs that are taken for the entire course of a patient's lifetime, this vaccine has the potential to administered just several times, possibly only once, over the course of a patient's life.

    Humeau believes that he and his team are headed in the right direction and hope to start clinical trials in humans as soon as 18 months with approval from the U.S. Food and Drug Administration.

    ReplyDelete
  14. एच आई वी एड्स की काट का टीका बनाने की दिशा में एक कदम ओर .
    आलमी एड्स सोसायटी की छटी आलमी बैठक हाल ही में रोम में संपन्न हुई है .बैठक में विमर्श हुआ एड्स रोगकारकों ,उपचार ओर बचावी रणनीति पर . इसे बंदरों में होने वाली एड्स के विषाणु "सिमियन इम्यूनो -दिफिशियेंसी वायरस " एस आई वी को आनुवंशिक तौर पर तबदील करके तैयार किया गया है . आजमाइशों में ५ संक्रमित बंदरों को ६ महीने के भीतर इसके तीन बार टीके लगाए गए .जबकि ५ अन्यों पर इसका छद्म रूप(प्लेसिबो ) आजमाया गया .
    १८ माह के बाद जांच से पता चला जिन बंदरों को असली वेक्सीन दी गई उनमे से ४०%के रक्त में या तो यह विषाणु गायब हो चुका है या इसका "वायरस लोड " नगण्य ही रह गया है .उम्मीद बंधी है बंदरों में तो कमसे कम इससे पार पाया जा सकेगा .बंदरों में पहले ही टीके का असर २ साल तक देखा गया आगे हिफाज़ती बूस्टर डोज़ टीके की देने की नौबत ही नहीं आई .बेशक मनुष्यों में अभी इसकी कारगरता के बारे में कुछ भी कहना संभव नहीं है क्योंकि मनुष्य न तो बन्दर है ओर न ही एच आई वी ,एस आई वी है ..कई बातें जो बंदरों के लिए बड़े महत्व की रहीं उनका मनुष्यों पर कोई असर नहीं निकला है .बेशक कई ओर रिसर्चरों ने ऐसी ही "थिरापेतिक वेक्सीन "बनाकर आज़माइश की हैं .लेकिन सच यह भी है यह थिरापेतिक वेक्सीन (वी आर एक्स १२७३ )उपलब्ध एंटी -रेट्रो -वायरल ड्रग्स के बरक्स जिन्हें एच आई वी के खिलाफ काम में लिया जाता है कहीं सस्ती होगी जन जन के लिए .इसे ताउम्र नहीं कुछ मर्तबा ही "एच आई वी एड्स" संक्रमित व्यक्ति के जीवन काल में देना पड़ेगा .हो सकता है एक मर्तबा में ही बात बन जाए .
    जो हो रिसर्चरों को उम्मीद है आइन्दा १८ माह बाद ही इसके ह्यूमेन ट्रायल्स अमरीकी खाद्य एवं दवा संस्था की मंजूरी से शुरु किए जा सकेंगे .

    ReplyDelete
  15. कुछ और तथ्य जोड़ना चाहुंगा!

    १.HIV+ अर्थात एडस नही होता!

    २.एक HIV+ सिर्फ HIV का वाहक भी हो सकता है।

    ३.HIV+ व्यक्ति सामान्य जीवन जी सकता है, उसे एड्स हो यह जरूरी नही है। HIV वायरस का यह व्यवहार रहस्यमय है कि क्यों वह सभी को एडस से प्रभावित नही करता है!

    ४.कुछ व्यक्तियो मे HIV वायरस संक्रमण के पश्चात १० वर्ष तक भी सुसुप्तावस्था मे भी रह सकता है। इस दौरान यह व्यक्ति एक वाहक रहेगा।

    ReplyDelete
  16. आशीष भाई यही तो ख़तरा है व्यक्ति खुद सही सलामत बना रहता दूसरों के लिए खतरे का सबब बन जाता है .इसी तरह टी बी के जीवाणु के वाहक बहुलांश में हैं लेकिन सबको टी बी नहीं होती .अलबत्ता एच आई वी एड्स -टी बी दुर्भि संधि होती है ,जो बे इन्तहा खतरनाक है .और इसी लिए टी बी को हलके में नहीं लिया जाना चाहिए ,लगके और पूरा इलाज़ करवाना चाहिए .दोनों (टी बी और एच आई वी एड्स परस्पर पोषण करतें हैं एक दूसरे का .).आशीष भाई शुक्रिया .ड्रग रेज़िस्तेंत टी बी एड्स को एड्स टी बी को न्योता देती है .

    ReplyDelete
  17. बहुत बढि़या जानकारी। आज हम एड्स को केवल फिरंगी बीमारी कहकर तिरस्‍कार नहीं कर सकते। विश्‍व का शायद कोई भी देश इस बीमारी से अछूता नहीं रह गया है। ऐसे में जरूरत है इस बीमारी को खत्‍म करने के लिए मिल जुलकर प्रयास करने की, इसके मूलोच्‍छेद के लिए आवश्‍यक अनुसंधान करने की, और हम इसमें जरूर कामयाब होंगे,क्‍योंकि पहले भी हमने कई बीमारियों को हराया है।

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छी जानकारीपूर्ण पोस्ट.
    दूसरे विषय के लेखों के बीच -बीच में इस तरह के जागरूक करते लेख आज के आवश्यकता हैं .वीरेंद्र जी बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं,बधाई.

    ReplyDelete
  19. VeeruBhai,

    In response to

    The virus can penetrate the latex (condom )unless it is soaked in a spermicide cream .hence the scare in the medical community .They wear special gloves while handling blood products ,or an infected person during surgery


    Here is the opinion of a doctor

    1. HIV virus cannot penetrate condom. whoever said it could penetrate is really stupid!!!!
    thats the reason why medical community wears gloves to handle a HIV positive patient.


    2. spermicide cream, is a contraceptive option.
    whereby a cream is applied onto the vagina and its inner linning. and it kills the sperms as it comes in contact with it.

    ReplyDelete
  20. Good post

    ReplyDelete
  21. yogeshji thank you for yr update in science it is a continuous march. WHO recommonded use of such condoms referred in the post .

    ReplyDelete
  22. बहुत बढि़या जानकारी।

    ReplyDelete

Name

- दर्शन लाल बावेजा,1,- बी एस पाबला,1,-Dr. Prashant Arya,2,-अंकित,4,-अंकुर गुप्ता,7,-अभिषेक ओझा,2,-अल्पना वर्मा,22,-आशीष श्रीवास्‍तव,2,-इन्द्रनील भट्टाचार्जी,3,-काव्या शुक्ला,2,-जाकिर अली ‘रजनीश’,56,-जी.के. अवधिया,6,-जीशान हैदर जैदी,45,-डा प्रवीण चोपड़ा,4,-डा0 अरविंद मिश्र,26,-डा0 श्‍याम गुप्‍ता,5,-डॉ. गुरू दयाल प्रदीप,8,-डॉ0 दिनेश मिश्र,5,-दर्शन बवेजा,1,-दर्शन लाल बवेजा,7,-दर्शन लाल बावेजा,2,-दिनेशराय द्विवेदी,1,-पवन मिश्रा,1,-पूनम मिश्रा,7,-बालसुब्रमण्यम,2,-योगेन्द्र पाल,6,-योगेश,1,-रंजना [रंजू भाटिया],22,-रेखा श्रीवास्‍तव,1,-लवली कुमारी,3,-विनय प्रजापति,2,-वीरेंद्र शर्मा(वीरुभाई),81,-शिरीष खरे,2,-शैलेश भारतवासी,1,-संदीप,2,-सलीम ख़ान,13,-हिमांशु पाण्डेय,3,.संस्‍था के उद्देश्‍य,1,।NASA,1,(गंगा दशहरा),1,100 billion planets,1,2011 एम डी,1,22 जुलाई,1,22/7,1,3/14,1,3D FANTASY GAME SPARX,1,3D News Paper,2,5 जून,1,Acid rain,1,Adhik maas,1,Adolescent,1,Aids Bumb,1,aids killing cream,1,Albert von Szent-Györgyi de Nagyrápolt,1,Alfred Nobel,1,aliens,1,All india raduio,1,altruism,1,AM,18,Aml Versha,1,andhvishwas,5,animal behaviour,1,animals,1,Antarctic Bottom Water,1,Antarctica,9,anti aids cream,1,Antibiotic resistance,1,arunachal pradesh,1,astrological challenge,1,astrology,1,Astrology and Blind Faith,1,astrology and science,1,astrology challenge,1,astronomy,4,Aubrey Holes,1,Award,4,AWI,1,Ayush Kumar Mittal,2,bad effects of mobile,1,beat Cancer,1,Beauty in Mathematics,1,Benefit of Mother Milk,1,benifit of yoga,1,Bhaddari,1,Bhoot Pret,3,big bang theory,1,Binge Drinking,1,Bio Cremation,1,bionic eye Veerubhai,1,Blind Faith,4,Blind Faith and Learned person,1,bloggers achievements,1,Blood donation,1,bloom box energy generator,1,Bobs Award,1,Breath of mud,1,briny water,1,Bullock Power,1,Business Continuity,1,C Programming Language,1,calendar,1,Camel reproduction centre,1,Carbon Sink,1,Cause of Acne,1,Change Lifestyle,1,childhood and TV,1,chromosome,1,Cognitive Scinece,1,comets,1,Computer,2,darshan baweja,1,Deep Ocean Currents,1,Depression Treatment,1,desert process,1,Dineshrai Dwivedi,1,DISQUS,1,DNA,3,DNA Fingerprinting,1,Dr Shivedra Shukla,1,Dr. Abdul Kalam,1,Dr. K. N. Pandey,1,Dr. shyam gupta,1,Dr.G.D.Pradeep,9,Drug resistance,1,earth,28,Earthquake,5,Einstein,1,energy,1,Equinox,1,eve donation,1,Experiments,1,Facebook Causes Eating Disorders,1,faith healing and science,1,fastest computer,1,fibonacci,1,Film colourization Technique,1,Food Poisoning,1,formers societe,1,gauraiya,1,Genetics Laboratory,1,Ghagh,1,gigsflops,1,God And Science,1,golden number,2,golden ratio,2,guest article,9,guinea pig,1,Have eggs to stay alert at work,1,Health,73,Health and Food,14,Health and Fruits,1,Heart Attack,1,Heel Stone,1,Hindi Children's Science Fiction,1,HIV Aids,1,Human Induced Seismicity,1,Hydrogen Power,1,hyzine,1,hyzinomania,1,identification technology,2,IIT,2,Illusion,2,immortality,2,indian astronomy,1,influenza A (H1N1) virus,1,Innovative Physics,1,ins arihant,1,Instant Hip Hain Relief,1,International Conference,1,International Year of Biodiversity,1,invention,5,inventions,30,ISC,2,Izhar Asar,1,Jafar Al Sadiq,1,Jansatta,1,japan tsunami nature culture,1,Kshaya maas,1,Laboratory,1,Ladies Health,5,Lauh Stambh,1,leap year,1,Lejend Films,1,linux,1,Man vs.Machine,1,Manish Mohan Gore,1,Manjeet Singh Boparai,1,MARS CLIMATE,1,Mary Query,2,math,1,Medical Science,2,Memory,1,Metallurgy,1,Meteor and Meteorite,1,Microbe Power,1,Miracle,1,Misconduct,3,Mission Stardust-NExT,1,MK,74,Molecular Biology,2,Motive of Science Bloggers Association,1,Mystery,1,Nature,1,Nature experts Animal and Birds,1,Negative Effects of Night Shift,1,Neuroscience Research,1,new technology,1,NKG,4,open source software,1,Osmosis,1,Otizm,1,Pahli Barsat,1,pain killer and pain,1,para manovigyan,1,PCST 2010,5,pencil,1,Physics for Entertainment,1,PK,2,Plagiarism,5,Prey(Novel) by Michael Crichton,1,Pshychology,1,psychological therapy in vedic literature,1,Puberty,1,Rainbow,1,reason of brininess,1,Refinement,1,Research,4,Robotics,1,Safe Blogging,1,Science Bloggers Association as a NGO,2,science communication through blog writing,4,Science Fiction,16,Science Fiction Writing in Regional Languages,1,Science Joks,1,Science Journalism and Ethics,3,Science News,2,science of laughter,1,science project,1,Science Reporter,1,Science Theories,9,scientific inventions,2,Scientist,47,scientists,1,Search Engine Volunia,1,Secret of invisibility,1,Sex Ratio,1,Shinya Yamanaka,1,SI,1,siddhi,1,Solar Energy,1,space tourism,1,space travel,1,Spirituality,1,Stem Cell,1,Stephen Hawking,1,stonehenge mystery,1,Summer Solstice,1,Sunspots and climate,1,SuperConductivity,1,survival of fittest,1,sweet 31,1,Swine flue,1,taantra siddhee,1,tally presence system,1,Tantra-mantra,1,technical,1,technology,18,telomerase,1,Theory of organic evolution,1,Therapy in Rig veda,1,tokamak,1,Top 10 Blogger,1,Transit of Venus,1,TSALIIM Vigyan Gaurav Samman,1,tsunami warning,1,Tuberculosis Bacillus,1,tyndall effect,1,universe,14,Urdu Science Fiction Writer,1,vedic literature,1,VIDEO BOOK,1,Vigyan Pragati,1,Vigyan Prasar,1,Vision,1,Vividh Bharti,1,water,1,Web Technology,1,Wild life,3,Women Empowerment,1,Workshop,5,World Health Day,1,World no tobacco day,1,world trade center,1,Wormhole concept,1,Ya Perelman,1,yogendra,2,π,1,अंक,1,अंक गणित,1,अंतरिक्ष,1,अंतरिक्ष में सैर सपाटा,1,अंतरिक्ष यात्रा,1,अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन,1,अतिचालकता,1,अतीन्द्रिय दृष्टि,1,अतीन्द्रिय बोध,1,अथर्ववेद,1,अंध-विश्वास,2,अंधविश्‍वास,1,अंधविश्वास को चुनौती,3,अधिक मास,1,अध्यात्म,1,अनंत,1,अनसुलझे रहस्य,1,अन्तरिक्ष पर्यटन,3,अन्धविश्वास,3,अन्धविश्वास के खिलाफ,1,अभिषेक,8,अभिषेक मिश्र,4,अमरता,1,अम्ल वर्षा,1,अयुमु,1,अरुणाचल प्रदेश,1,अर्थ एक्सपेरीमेंट,3,अर्शिया अली,1,अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी,1,अलौकिक संगीत,1,अवसाद मुक्ति,1,अस्थि विज्ञान,1,आई आई टी,1,आई साईबोर्ग,1,आईएनएस अरिहंत,1,आकाश,1,आकाशगंगा,2,आटिज्‍म,1,आध्यात्म,1,आनंद कुमार,1,आनुवांशिक वाहक,1,आयुष मित्तल,1,आर्कियोलॉजी,1,आलम आरा,1,आविष्कार,1,आविष्कार प्रौद्योगिकी मोबाईल,1,इंटरनेट का सफर,1,इंडिव्हिजुअल व्हेलॉसिटी,1,इनविजिबल मैन,1,इन्जाज़-ऊंट प्रतिकृति,1,इन्द्रधनुष,1,इन्द्रनील भट्टाचार्जी,1,इन्द्रनील भट्टाचार्य,1,इशारों की भाषा,1,ईश्वर और विज्ञान,1,उजाला मासिक,1,उन्माद,1,उन्‍मुक्‍त,1,उप‍लब्धि,3,उबुन्टू,1,उल्‍कापात,1,उल्‍कापिंड,1,ऋग्वेद,1,एड्स जांच दिवस,1,एड्सरोधी क्रीम,1,एनिमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया,1,एल्कोहल,1,एल्फ्रेड नोबल,1,औरतों में दिल की बीमारी का खतरा,1,कदाचार,1,कपडे,1,कम्‍प्‍यूटर एवं तकनीक,4,कम्प्यूटर विज्ञान,1,करेंट साइंस,1,कर्मवाद,1,किसानों की आत्महत्याएँ,1,कीमती समय,1,कृत्रिम जीवन,1,कृत्रिम रक्‍त,1,कृषि अवशेष,1,केविन वार्विक्क,1,कैसे मजबूत बनाएं हड्डियां,1,क्रायोनिक्स,1,क्रैग वेंटर,1,क्षय मास,1,क्षेत्रीय भाषाओं में विज्ञान कथा लेखन,2,खगोल,1,खगोल विज्ञान,2,खगोल विज्ञान.,1,खगोल वेधशाला,1,खतरनाक व्‍यवहार,1,खाद्य विषाक्‍तता,1,खारा जल,1,खूबसूरत आँखें,1,गणित,3,गति,1,गर्भकाल,1,गर्भस्‍थ शिशु का पोषण,1,गर्मी से बचने के तरीके,1,गुणसूत्र,1,गेलिलियो,1,गोल्डेन नंबर,2,गौरैया,1,ग्रह,1,ग्रीष्मकालीन अयनांत,1,ग्रुप व्हेलॉसिटी,1,ग्रेफ़ाइट,1,ग्लोबल वार्मिंग,2,घाघ-भड्डरी,1,चंद्रग्रहण,1,चमत्कार,1,चमत्कारिक पत्थर,1,चरघातांकी संख्याएं,1,चार्ल्‍स डार्विन,1,चिकत्सा विज्ञान,1,चैटिंग,1,छरहरी काया,1,छुद्रग्रह,1,जल ही जीवन है,1,जान जेम्स आडूबान,1,जानवरों की अभिव्यक्ति,1,जीवन और जंग,1,जीवन की उत्‍पत्ति,1,जैव विविधता वर्ष,1,जैव शवदाह,1,ज्योतिष,1,ज्योतिष और अंधविश्वास,2,झारखण्‍ड,1,टिंडल प्रभाव,1,टीलोमियर,1,टीवी और स्‍वास्‍थ्‍य,1,टीवी के दुष्‍प्रभाव,1,टेक्‍नालॉजी,1,टॉप 10 ब्लॉगर,1,डा0 अब्राहम टी कोवूर,1,डा0 ए0 पी0 जे0 अब्दुल कलाम,1,डाइनामाइट,1,डाटा सेंटर,1,डिस्कस,1,डी•एन•ए• की खोज,3,डीप किसिंग,1,डॉ मनोज पटैरिया,1,डॉ. के.एन. पांडेय,1,डॉ० मिश्र,1,ड्रग एडिक्‍ट,1,ड्रग्स,1,ड्रग्‍स की लत,1,तम्बाकू,1,तम्‍बाकू के दुष्‍प्रभाव,1,तम्बाकू निषेध,1,तर्कशास्त्र,1,ताँत्रिक क्रियाएँ,1,थर्मोइलेक्ट्रिक जेनरेटर,1,थ्री ईडियट्स के फार्मूले,1,दर्दनाशी,1,दर्शन,1,दर्शन लाल बवेजा,3,दिल की बीमारी,1,दिव्‍य शक्ति,1,दुरबीन,1,दूरानुभूति,1,दोहरे मानदण्ड,1,धरोहर,1,धर्म,2,धातु विज्ञान,1,धार्मिक पाखण्ड,1,धुम्रपान और याद्दाश्‍त,1,धुम्रपान के दुष्‍प्रभाव,1,धूल-मिट्टी,1,नई खोजें,1,नन्हे आविष्कार,1,नमक,1,नवाचारी भौतिकी,1,नशीली दवाएं,1,नाइट शिफ्ट के दुष्‍प्रभाव,1,नारायणमूर्ति,1,नारी-मुक्ति,1,नींद और बीमारियां,1,नींद न आने के कारण,1,नेत्रदान और ब्लॉगर्स,1,नेत्रदान का महत्‍व,1,नेत्रदान कैसे करें?,1,नैनो टेक्नालॉजी,1,नॉटिलस,1,नोबल पुरस्कार,1,नोबेल पुरस्कार,2,न्‍यूटन,1,परमाणु पनडुब्‍बी,1,परासरण विधि,1,पर्यावरण और हम,1,पर्यावरण चेतना,2,पशु पक्षी व्यवहार,1,पहली बारिश,1,पाई दिवस,1,पुच्‍छल तारा,1,पुरुष -स्त्री लिंग अनुपात,1,पूर्ण अँधियारा चंद्रग्रहण,1,पृथ्वी की परिधि,3,पृथ्‍वेतर जीवन,1,पेट्रोल चोरी,1,पेंसिल,1,पैडल वाली पनडुब्बी,1,पैराशूट,1,पॉवर कट से राहत,1,पौरूष शक्ति,1,प्रकाश,2,प्रज्ञाएँ,1,प्रतिपदार्थ,1,प्रतिरक्षा,1,प्रदूषण,1,प्रदूषण और आम आदमी,1,प्ररेणा प्रसंग,1,प्रलय,2,प्रलय का दावा बेटुल्गुयेज,1,प्रसव पीड़ा,1,प्रेम में ।धोखा,1,प्रोटीन माया,1,प्लास्टिक कचरा,1,फाई दिवस,1,फिबोनाकी श्रेणी,1,फिबोनाची,1,फेसबुक,1,फ्रीवेयर,1,फ्रेंकेंस्टाइन,1,फ्रेंच किसिंग,1,बनारस,1,बायो-क्रेमेशन,1,बायोमैट्रिक पहचान तकनीकियाँ,2,बाल विज्ञान कथा,1,बालसुब्रमण्यम,6,बिग-बेंग सिद्धांत,1,बिजली,1,बिजली उत्‍पादन,1,बिजली कैसे बनती है?,1,बिजलीघर,1,बिली का विकल्‍प,1,बी0एम0डब्ल्यू0,1,बीरबल साहनी,1,बुलेटप्रूफ,1,बैल चालित पम्प,1,ब्रह्मण्‍ड,1,ब्रह्मा,1,ब्रह्माण्‍ड,1,ब्रह्माण्‍ड के रहस्‍य,1,ब्रह्मान्ड,1,ब्रेन म्‍यूजिक,1,ब्लॉग लेखन,1,ब्लॉग लेखन के द्वारा विज्ञान संचार,2,ब्लॉगिंग का महत्व,1,भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद,1,भारतीय विज्ञान कथा लेखक समिति,1,भारतीय वैज्ञानिक,2,भारतीय शोध,1,भूकंप के झटके,1,भूकम्‍प,1,भूगर्भिक हलचलें,1,मंगल,1,मधुमेह और खानपान,1,मनजीत सिंह बोपाराय,1,मनीष मोहन गोरे,1,मनीष वैद्य,1,मनु स्मृति,1,मनोरंजक गणित,1,महिला दिवस,1,माचू-पिचू,1,मानव शरीर,1,माया,1,मारिजुआना,1,मासिक धर्म,1,मिल्‍की वे,1,मिशन स्टारडस्ट-नेक्स,1,मीठी गपशप,1,मीमांसा,1,मुख कैंसर,1,मृत सागर,1,मेघ राज मित्र,1,मेडिकल रिसर्च,1,मेरी शैली,1,मैथेमेटिक्स ओलम्पियाड,1,मैरी क्‍यूरी,2,मैरीन इनोवेटिव टेक्नोलॉजीज लि,1,मोटापा,1,मोबाईल के नुकसान,1,मौसम,1,यजुर्वेद,1,युवा अनुसंधानकर्ता पुरष्कार,1,यूरी गागरिन,1,योगेन्द्र पाल,1,योगेश,1,योगेश रे,1,रक्षा उपकरण,1,राईबोसोम,1,रूप गठन,1,रेडियो टोमोग्राफिक इमेजिंग,1,रैबीज,1,रोचक रोमांचक अंटार्कटिका,4,रोबोटिक्स,1,लखनऊ,1,लादेन,1,लालन-पालन,1,लिनक्स,1,लिपरेशी,1,लीप इयर,1,लेड,1,लॉ ऑफ ग्रेविटी,1,लोक विज्ञान,1,लौह स्तम्भ,1,वजन घटाने का आसान तरीका,1,वाई गुणसूत्र,1,वायु प्रदुषण,1,वाशो,1,विज्ञान,1,विज्ञान कथा,3,विज्ञान कथा सम्मेलन,1,विज्ञान के खेल,2,विज्ञान चुटकले,1,विज्ञान तथा प्रौद्यौगिकी,1,विज्ञान प्रगति,1,विज्ञान ब्लॉग,1,विज्ञापन,1,विटामिनों के वहम,1,विद्युत,1,विवेकानंद,1,विवेचना-व्याख्या,1,विश्व नि-तम्बाकू दिवस,1,विश्व पर्यावरण दिवस,1,विश्व भूगर्भ जल दिवस,1,विष्णु,1,वीडियो,1,वीडियो बुक,1,वैज्ञानिक दृष्टिकोण,1,वैद्य अश्विनी कुमार,1,वोस्तोक,1,व्‍यायाम के लाभ,1,व्हेलॉसिटी,1,शिव,1,शुक्र पारगमन,1,शुगर के दुष्‍प्रभाव,1,शून्य,1,शोध परिणाम,1,शोधन,1,श्रृष्टि का अंत,1,सं. राष्ट्रसंघ,1,सकारात्‍मक सोच का जादू,1,संक्रमण,1,संख्या,1,संजय ग्रोवर,1,संज्ञात्मक पक्षी विज्ञान,1,सटीक व्‍यायाम,1,संत बलबीर सिंह सीचेवाल,1,सत्यजित रे,1,समय की बरबादी को रोचकने के उपाय,1,समाज और हम,1,समुद्र,1,संयोग,1,सर चन्द्रशेखर वेंकट रमन राष्ट्रीय विज्ञान दिवस,1,सर्प संसार,1,साइकोलोजिस्ट,1,साइनस उपचार,1,साइंस ब्लागर्स मीट,1,साइंस ब्लागर्स मीट.,2,साइंस ब्लॉग कार्यशाला,2,साइंस ब्लॉगर्स असोसिएशन अवार्ड,1,साइंस ब्लॉगर्स असोसिएशन रजिस्ट्रेशन,1,साइंस ब्लॉगर्स ऑफ दि ईयर अवार्ड,1,साइंस ब्लोगिंग,1,साईकिल,1,सामवेद,1,सामाजिक अभिशाप,1,सामाजिक चेतना,1,साहित्यिक चोरी,2,सिगरेट छोड़ें,1,सी. एस. आई. आर.,1,सी.वी.रमण विज्ञान क्लब,1,सीजेरियन ऑपरेशन,1,सुपर अर्थ,1,सुपर कम्प्यूटर,1,सुरक्षित ब्लॉगिंग,1,सूर्यग्रहण,2,सृष्टि व जीवन,3,सेक्स रेशियो,1,सेहत की देखभाल,1,सोशल नेटवर्किंग,1,स्टीफेन हाकिंग,1,स्पेन,1,स्मृति,1,स्वर्ण अनुपात,1,स्वाईन-फ्लू,1,स्वास्थ्य,2,स्‍वास्‍थ्‍य और खानपान,1,स्वास्थ्य चेतना,3,हमारे वैज्ञानिक,4,हरित क्रांति,1,हंसी के फायदे,1,हाथरस कार्यशाला,1,हिंद महासागर,1,हृदय रोग,1,होलिका दहन,1,ह्यूमन रोबोट,1,
ltr
item
Science Bloggers' Association: वैश्विक हुआ फिरंगी संस्कृति का रोग ! (HIV Test, AIDS Baby, NO French Kissing)
वैश्विक हुआ फिरंगी संस्कृति का रोग ! (HIV Test, AIDS Baby, NO French Kissing)
http://bp1.blogger.com/_HPCf_WV1x2U/RnwZi41w_tI/AAAAAAAAAAM/K1L614GrB4I/s200/Take_the_Test.png
http://bp1.blogger.com/_HPCf_WV1x2U/RnwZi41w_tI/AAAAAAAAAAM/K1L614GrB4I/s72-c/Take_the_Test.png
Science Bloggers' Association
https://blog.scientificworld.in/2011/07/blog-post_16.html
https://blog.scientificworld.in/
https://blog.scientificworld.in/
https://blog.scientificworld.in/2011/07/blog-post_16.html
true
1415300117766154701
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy