चमत्कारों के रहस्य!

हम भूत-प्रेत, परग्रही द्वारा अपहरण से लेकर भविष्यवाणी करना, हवा से वस्तु उत्पन्न करने से लेकर पुनर्जन्म जैसी विचित्र बातों पर विश्व...


हम भूत-प्रेत, परग्रही द्वारा अपहरण से लेकर भविष्यवाणी करना, हवा से वस्तु उत्पन्न करने से लेकर पुनर्जन्म जैसी विचित्र बातों पर विश्वास कर सकते है। क्या आपने सोचा है कि ऐसा क्यों होता है कि शिक्षित व्यक्ति भी इन बातों पर विश्वास करते है?


वैज्ञानिक सोच का अभाव
1.मान्यता द्वारा निरिक्षण पर प्रभाव: यदि आप किसी सिद्धांत को मानते है तब वह सिद्धांत आपके निरीक्षण को प्रभावित करता है। आप परिणामो को अपने सिद्धांत के अनुसार परिभाषित करते है। कोलंबस भारत को खोजने के लिए अमरीका पहुंच गया था, उसकी मान्यता थी कि यदि वह युरोप के पश्चिम दिशा से यात्रा करेगा तो वह भारत पहुंच जायेगा। जब वह अमरीका पंहुचा, तब उसकी मान्यता के कारण तांबे रंग के मूल अमरीकी निवासीयों को वह भारतीय मान बैठा। यही नही उसे अमरीका मे भारतीय मसाले और जड़ी बुटीयां दिख रही थी। कोलंबस अपनी निरिक्षणों को अपनी मान्यता के बाहर देख ही नही पा रहा था।

2. निरीक्षक द्वारा निरीक्षीत मे परिवर्तन: किसी भी वस्तु का अध्यन उस वस्तु की अवस्था मे परिवर्तन कर सकती है। यह किसी मानवविज्ञानी द्वारा किसी जनजाति के अध्ययन से लेकर किसी भौतिकविज्ञानी द्वारा इलेक्ट्रान के अध्ययन पर लागु होता है। इसी कारण से मानसीकचिकित्सक "ब्लाइंड और डबल ब्लाइंड तकनीको( blind and double-blind controls)" का प्रयोग करते है। इन तकनिको मे किसी वैज्ञानिक प्रयोग मे शामील व्यक्तियों से वह जानकारी छुपायी जाती है जिससे वह व्यक्ति के चेतन या अवचेतन मष्तिष्क पर कोई पूर्वाग्रह या पक्षपात उत्पन्न हो, ऐसा परिणामो की विश्वसनियता के लिए किया जाता है। छद्म विज्ञानी ऐसा कुछ नही करते है।

3.उपकरण परिणाम का निर्माण करते है: किसी प्रयोग मे प्रयुक्त उपकरण परिणामों को प्रभावित करते हैं। उदाहरण के लिए जैसे जैसे हमारे दूरबीनो की क्षमता बढ़ते गयी, हमारी जानकारी मे ब्रह्माण्ड का आकार भी बढ़ता गया। सीधे सीधे शब्दो मे मछली पकड़ने के जाल का आकार उसमे पकड़ी जाने वाली सबसे बड़ी मछली का आकार बतायेगा, ना कि तालाब मे सबसे बड़ी मछली का आकार!

4.श्रुति!= विज्ञान:- हम लोगो से जो किस्से कहानियाँ सुनते है, वह विज्ञान नही होता है। छद्म विज्ञानी श्रुति को मानते है जबकि विज्ञान प्रामाणिक अध्ययन को मानता है।

छद्मवैज्ञानिक सोच की समस्यायें
5.वैज्ञानिक भाषा का प्रयोग उसे वैज्ञानिक नहीं बनाती है: किसी मान्यता की व्याख्या यदि वैज्ञानिक भाषा/शब्दो के प्रयोग से की जाये तो वह मान्यता वैज्ञानिक नही हो जाती। ज्योतिषी खगोल विज्ञान के शब्दो के प्रयोग से उसे वैज्ञानिक प्रमाणित करने का प्रयास करते हैं। सं रां अमरीका के "क्रियेशनीज्म" के समर्थको ने अपनी मान्यता को वैज्ञानिक शब्दो/भाषा के प्रयोग कर उसे वैज्ञानिक सिद्धांत के रूप मे पेश किया था लेकिन उनकी चाल पकड़ी गयी थी।

6. निर्भिक कथन उसे सत्य प्रमाणित नही करता है: यदि आप लाखों लोगो के सामने निर्भिकता से कोई सिद्धांत पेश करें तो इसका अर्थ यह नही है कि आपका सिद्धांत सत्य है। कोई व्यक्ति अपने आपको भगवान कहे तो वह भगवान नही हो जाता। असाधारण कथन/दावे को प्रामाणित करने असाधारण प्रमाण चाहीये होते है।

7.विद्रोही/क्रांतीकारी मत का अर्थ सत्य नही होता है:- कोपरनीकस, गैलेलीयो तथा राईट बंधु विद्रोही/क्रांतिकारी विचारों के थे। लेकिन विद्रोही/क्रांतिकारी विचारों का होना ही आपको सही साबित नही करता है। होलोकास्ट से इंकार करने वाले विद्रोही/क्रांतिकारी विचार रखते है लेकिन वे गलत है क्योंकि उनके पास इसके प्रमाण नही है, जबकि उनके विरोध मे ढेर सारे प्रमाण है। ग्लोबल वार्मींग के विचार से असहमत लोग भी विद्रोही/क्रांतिकारी विचार रखते है लेकिन वे भी गलत है क्योंकि प्रमाण उनके विरोध मे हैं।

8.प्रमाणित करने की जिम्मेदारी: असाधारण दावे को प्रमाणित करने की जिम्मेदारी दावा करने वाले व्यक्ति की होती है। यदि कोई व्यक्ति दावा करता है कि उसने अपनी मानसीक शक्ति से पर्वत को हिला दिया है तो उसे प्रमाणित भी करना होगा।

9. अफवाहे सत्य नही होती है: अफवाहो की शुरुवात होती है "मैने कहीं पढा़ था...." या "मैने किसी से सुना था....."। कुछ समय पश्चात यह सत्य बन जाती है और लोग कहते है कि "मै जानता हूं कि.........."। इस तरह कि अधिकतर कहांनिया गलत होती है। इंटरनेट की चेन मेल इसका सबसे बड़ा उदाहरण हैं। एक उदाहरण है मोतीलाल नेहरू के पिता का नाम गयासुद्दीन गाजी होने की इंटरनेट पर फैली अफ़वाह। दूसरा उदाहरण है टाईम्स आफ इंडीया के संपादक द्वारा भारत के प्रधानमंत्री को लिखा गया कथित पत्र।

10. अस्पष्ट का अर्थ रहस्यमय नही होता:  यदि आप किसी घटना की व्याख्या नही कर पा रहे है इसका अर्थ यह नही है कि उसकी व्याख्या नही की जा सकती है। आग पर चलना रहस्यमय लगता है लेकिन यदि आपको उसके पीछे के कारण बता दिये जाये तो वह आपको रहस्यमय नही लगेगा। यह सभी जादू की तरकीबो के साथ है, ये तरकीबे आपको उस समय तक जादुई लगेंगी जब तक आप उसके कार्यप्रणाली को नही जानते है। किसी घटना को कोई विशेषज्ञ भी समझ नही पाये तो इसका अर्थ यह नही है कि भविष्य मे कोई और उसे समझ नही पायेगा। १०० वर्ष पहले जीवाणु, परमाणु एक रहस्य हुआ करते थे। बिजली चमकने को इंद्रदेव का वज्र समझा जाता था।

11. असफलता की तर्कसंगत व्याख्या : विज्ञान अपनी असफलता को मान्यता देता है, वह अपनी असफलता की तर्कसंगत व्याख्या करता है और अपने आपको पुनर्गठित करता है। यह छद्मविज्ञान के साथ नही होता है, वे असफलता को नजरअंदाज करते है या उसे किसी अज्ञात के मत्त्थे मढ़ देते है। जैसे जन्मतिथि की सही जानकारी ना होने से भविष्यवाणी गलत हुयी, पूजा मे कोई अशुद्ध व्यक्ति के शामिल होने से कार्य सही नही हुआ इत्यादि।

12.अंधविश्वास : मैने अपने विशेष पेन से परिक्षा दी थी इसलिये अच्छे अंको से पास हुआ। उस खिलाड़ी ने उस नंबर की जर्सी नही पहनी थी इसलिये टीम हारी। इस तरह की मान्यतायें आत्मविश्वास की कमी से आती है। इस तरह की घटनाओ मे परिणाम और मान्य कारको के मध्य कोई संबंध नही होता है।

13. संयोग/संभावना: अधिकतर लोगो को संभावना/प्रायिकता (Probability) के नियमो की जानकारी नही होती है। मान लिजीये कि आपने किसी को फोन करने फोन की ओर हाथ बढ़ाया और उसी का फोन आ गया। यह संयोग कैसे हो सकता है ? यह तो आपके मन और उसके मन के बीच मे कोई जुड़ाव से ही होना चाहीये ! यहां हम भूल जाते हैं कि हम किसी को हजारो बार फोन करते है, तब उसका फोन नही आता है। यदि आप सचिन तेंदुलकर को गेंद फेंके तब सचिन के बोल्ड होने की संभावना शुन्य नही होती है ! यह किसी सिक्के को उछाल कर चित/पट देखने से अलग नही है। लेकिन हम हर घटना के पीछे एक पैटर्न देखते है और नही होने पर अपने मन के अनुसार एक नया पैटर्न ढूंढ निकालते है!

तार्किक सोच में समस्याएं
14.प्रतिनिधी घटनायें : कुछ घटनायें असामान्य लगती है लेकिन होती नही हैं। उदाहरण के लिए घर मे रात मे आने वाली खट-खट, ठक-ठक की आवाज भूतों की न होकर चुहों की होती है। बरमूडा त्रिभूज मे कई जहाज लापता हुये है क्योंकि इस भाग मे आने वाले जहाजो की संख्या ज्यादा है। वास्तविकता यह है कि इस क्षेत्र मे होने वाली दुर्घटनाओं का औसत अन्य क्षेत्र की तुलना मे कम है।
मेरे गृहनगर गोंदिया मे एक हाई वे पर एक विशेष स्थान पर दुर्घटनाएँ ज्यादा होती थी। वह स्थान सीधा था, कोई मोड़ नही, कोई बाधा नही। लोग उसे प्रेतात्मा का प्रकोप मानते थे। लेकिन वास्तविकता यह थी कि रास्ते के सीधे होने से लोग गति बढ़ा देते थे और दुर्घटना होती थी। यातायात पोलिस ने रोड विभाजक और गति नियंत्रक लगा दिये। दुर्घटनाएँ बंद हो गयी।

15.भावनात्मक शब्द और गलत उपमायें : अलंकारो से भरी भाषा कभी कभी सत्य को छुपा देती है। भूषण कवि के अनुसार शिवाजी के सेना के हाथी जब चलते है तब पृथ्वी हिलती है, धूल के बादलो से सूर्य ढंक जाता है। इस तरह की अलंकारीक भाषा कई मिथको को जन्म देती है। विभिन्न धर्मग्रंथो की कहानियोँ मे यह स्पष्ट रूप से दिखायी देती है।
इसी तरह किसी राजनेता को "नाजी", या "हत्यारा" जैसी भावनात्मक उपमाये दे दी जाती है जिनका अर्थ कालांतर मे बदल जाता है।

16.अनभिज्ञता का आकर्षण : इसके अनुसार यदि आप किसी को झुठला नही सकते तो वह सत्य होना चाहीये। इसे भूतों, परामानसीक शक्तियों के बचाव मे प्रयोग किया जाता है। जैसे यदि आप भूतों, परामानसीक शक्तियों को झुठला नही सकते हो तो मानीये कि उनका अस्तित्व है। लेकिन समस्या यह है कि सांता क्लाज के अस्तित्व को भी झुठलाया नही जा सकता है। मै दावा करता हूं कि सूर्य मेरे आदेश से निकलता है, कोई इसे असत्य साबित कर के दिखाये ! विश्वास अस्तित्व के सकारात्मक प्रमाणो पर आधारित होना चाहीये, ना कि प्रमाणो के अभाव पर।

17. व्यक्तिगत आक्षेप :  इस विधी मे किसी व्यक्ति के नये क्रांतिकारी आइडीये पर से उस व्यक्ति पर व्यक्तिगत आक्षेप लगाकर द्वारा ध्यान बंटाया जाता है। जैसे डार्वीन को रेसीस्ट कह देना, किसी नेता को नाजीवादी करार देना। जार्ज वाशींगटन ने मानव गुलाम रखे थे लेकिन उससे उनकी महानता कम नही होती है। महात्मा गांधी पर लगे व्यक्तिगत आरोपो से भी उनकी महानता कम नही होती है।

18.अति साधारणीकरण: इसे पूर्वाग्रह भी कहते है। इसमे पूरे तथ्यो को न जानते हुये भी परिणाम निकाले जाते है। जैसे किसी स्कूल मे दो शिक्षक अच्छे नही होने पर पूरे स्कूल को बुरा बना देना। या किसी कंपनी के इक्का दूक्का कारो मे आयी समस्याओं से पूरे ब्राण्ड को खराब कह देना।

19. व्यक्ति की छवि पर अति निर्भरता: किसी भी तथ्य को बिना जांचे परखे नही स्वीकार करना चाहीये , चाहे वह किसी महान सम्मानित व्यक्ति द्वारा ही कहे गये हों। उसी तरह खराब छवि वाले व्यक्ति द्वारा दिये गये अच्छे तथ्य को बिना जांचे परखे खारीज नही करना चाहिये। हाल ही मे हुये अन्ना तथा बाबा रामदेव के आंदोलन इसके उदाहरण है।

20: या तो वह नही तो यह: इस तर्क मे यदि एक पक्ष गलत है तो दूसरा सही होना चाहिये। उदाहरण के लिए ”क्रियेशन सिद्धांत”* के पक्षधर डार्वीन के ’क्रमिक विकास के सिद्धांत” पर हमला करते रहते है क्योंकि वह मानते है कि क्रमिक विकास का सिद्धांत गलत है। लेकिन क्रमिक विकास के सिद्धांत के गलत होने से भी क्रियेशन सिद्धांत सही सिद्ध नही होता है। उन्हे क्रियेशन सिद्धांत के पक्ष मे प्रमाण जुटाने होंगे।

21. चक्रिय तर्क : इसमे एक तर्क को प्रमाणित करने दूसरे तर्क का सहारा लिया जाता है, तथा दूसरे तर्क को प्रमाणित करने पहले का। जैसे धार्मिक बहस मे:
क्या भगवान का आस्तित्व है ?
हां।
तुम्हे कैसे मालूम ?
मेरे धर्मग्रंथ मे लिखा है।
तुम कैसे कह सकते हो कि तुम्हारा धर्मग्रंथ सही है ?
क्योंकि उसे भगवान ने लिखा है।

विज्ञान मे :
गुरुत्वाकर्षण क्या है ?
पदार्थ द्वारा दूसरे पदार्थ को आकर्षित करने की प्रवृत्ति।
पदार्थ एक दूसरे को आकर्षित कैसे करते है ?
गुरुत्वाकर्षण से।
साधारण बहस मे:
राम कहां रहता है ?
श्याम के घर के सामने।
श्याम कहां रहता है?
राम के घर के सामने ?

22. किसी तथ्य का सहारा लेकर असंगत सिद्धांत हो सिद्ध करना: इस मे किसी एक सर्वमान्य को तथ्य को लिया जाता है, उस पर एक नये तथ्य को प्रमाणित किया जाता है। दूसरे से तीसरे को, इस क्रम मे किसी असंगत नतिजे पर पहुंचा जा सकता है। जैसे : आइसक्रीम खाने से वजन बढता है। वजन बढने से मोटापा बढता है। ज्यादा मोटापे से हृदय रोग होता है। हृदय रोग से मृत्यु हो सकती है। इसलिये आइसक्रीम खाने से मृत्यु हो सकती है। 
कोई क्रियेशन सिद्धांत का समर्थक कह सकता है कि क्रमिक विकास के लिए भगवान की आवश्यकता नही है। यदि भगवान की जरूरत नही है, तो तुम भगवान को मानते नही हो। भगवान को न मानने मे नैतिकता नही है। इसलिये क्रमिक विकास को मानने वाले भगवान को नही मानते है और अनैतिक होते है।

सोचने में मनोवैज्ञानिक समस्याएं
23.प्रयास मे कमी तथा निश्चितता, नियंत्रण और सरलता की आवश्यकता: हममे से अधिकतर निश्चितता चाहते है, अपने वातावरण पर नियंत्रण चाहते है और सरल व्याख्या चाहते है। लेकिन प्रकृति इतनी सरल नही है। कभी कभी हल सरल होते है लेकिन कभी कभी जटिल। हमे जटिल सिद्धांतो को समझने के लिए प्रयास करना चाहीये नाकि अपने आलस के कारण उन्हे ना समझ पाने के फलस्वरूप खारीज करना चाहिये।

24. समस्या के हल मे प्रयास की कमी: किसी समस्या को हल करते समय हम एक अवधारणा बना लेते है और उसके बाद हम उस अवधारणा के अनुसार उदाहरण देखना शुरू कर देते है। जब हमारी अवधारणा गलत होती है तब हम उसे बदलने मे देर करते हैं। इसके साथ हम सरल हल की ओर झुकते है जबकि वह हर पहलू को हल नही करते हैं।

25.वैचारिक स्वाधीनता : हम अपने मूलभूत विचारो से समझौता पसंद नही करते है। जो नये विचार हमारे परिप्रेक्ष्य मे सही नही होते है उनसे बचने के लिए हम अपने चारो ओर एक दीवार खड़ी कर देते है। जितनी ज्यादा प्रतिभा होगी, यह दिवार उतनी ऊंची होती है। हमारे विचित्र विचारो पर विश्वास रखने मे यह सबसे बड़ी बाधा होती है। हम इसरो और डी आर डी ऒ के वैज्ञानिको को हाथो मे अगुंठिया पहने देख सकते है।
 
=========================================================================
माइकल शेर्मर की बेहतरीन पुस्तक "Why People Believe Weird Things" पढने के बाद उपजी पोस्‍ट।
* क्रियेशन सिद्धांत : इसके अनुसार पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति किसी दैवीय शक्ति ने की है। यह डार्विन के प्रचलित क्रमिक विकास के सिद्धांत को नहीं मानता है।

सभी चित्र: साभार गूगल सर्च
keywords: why we believe in supernatural, why do we believe in superstitions, why should we believe in superstitions, why do we believe in supernatural powers, should we believe in supernatural powers, chamatkar ke rahasya, chamatkar myth or fact, chamatkar real, real chamatkar in india, chamatkar in real life, reality of chamatkar, reality of chamatkars, blind faith, blind faith quotes, blind faith meaning, blind faith in india, चमत्कार का रहस्य, चमत्कार को नमस्कार, चमत्कार से कम, चमत्कार से भरी, चमत्कार करने, चमत्कार की उम्मीद, चमत्कार होते, चमत्कारी उपाय, चमतकार, चमत्कारी प्रयोग, चमत्कारी टोटके, चमत्कारी जडी, चमत्कारी ताबीज, चमत्कारी, चमत्कारी मंत्र, चमत्कारी जड़ी बूटी, अलौकिक शक्तियां, अलौकिक शक्तियाँ, अलौकिक अनुभव, अलौकिक शक्ति, अलौकिक शक्तियों, अलौकिक आनंद, अलौकिक रूप, अलौकिक चमक, अलौकिक आनन्द

COMMENTS

BLOGGER: 45
  1. आशीष जी, बहुत ही विस्‍तार से और धैर्य के साथ आपने चमत्‍कार को स्‍वीकारने वाली मानसिकता को रेखांकित किया है। अभिभूत हूं पढकर।

    ReplyDelete
  2. बहुत उपयोगी पोस्ट। बधाई! ऐसे ही काम करते रहें।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढ़िया, आप को इस शानदार आलेख के लिये बहुत बहुत बधाई,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बढ़िया, आप को इस शानदार आलेख के लिये बहुत बहुत बधाई,

    ReplyDelete
  5. जी हाँ मान्यता और हमारे मूल विश्वास यहाँ तक की अर्जित जानकारी भी देखी गई चीज़ को असर ग्रस्त कर सकतें हैं .इसलिए कहा भी गया -"जिन खोजा तिन पाइयां..." और यह भी -"जा -की रही भावना जैसी परभू मूरत देखी तिन तैसी.
    (2)The very process of perception effects what is being seen ,position and time of an event can not be accurately determined .(Uncertainty Principle. ).
    (३)आखिर देखने की जानने की भी सीमाएं हैं ,सृष्टि का बहुलांश इसीलिए अज्ञेय ,अनुमेय ही बना हुआ है .बेशक रेडिओ -दूरबीनों की भी सुदूर अन्तरिक्ष से आते पिंडों से निसृत संकेतों को पकड़ने टोहने की सीमाएं हैं ,फिर मानवीय दर्शन सम्पूर्ण और निर्दोष कैसे हो सकता है .अलबत्ता केवल देखने की प्रक्रिया ही सत्य है ,जो देखा जा रहा है वह गलत हो सकता है .
    (४)जी हाँ मेक एंड बिलीफ पर चली आई मौखिक परम्परा भी अपने साथ अनेकों जन -आस्थाएं लिए आती है .
    (५)क्रत्रिम बुद्धि लेब में नहीं गढ़ी जा सकती यह चर्च का दुराग्रह है .केवल ईश्वर ही बुद्धिमान प्राणियों का सृजन कर सकता है यह भी आग्रह -मूलक विश्वाश और जिद से ज्यादा कुछ नहीं है .क्लोनिग इसका प्रमाण है .
    (६)हां विज्ञान प्रमाण मानता है .माँगता है कोई कहे के आत्मा का अस्तित्व है तो विज्ञानी कहेगा ,भैया आत्मा है तो लाओ उसे लेब में देखें आज़माइश करके .क्या होती है सचेतन ऊर्जा ?
    (७)अफवाहों के पंख नहीं होते यह ऐसा पंछी है बिना परों के परवाज़ भरता है ऊंची और ऊंची .
    (८)जी हाँ आग पर चलना कोई चमत्कार नहीं है चमड़ी को जलने में तीन सेकिंड लगतें हैं उससे पहले आप स्पर्श बिंदु चमड़ी और आग के बीच का अभ्यास से बदल सकतें हैं .
    (९)विज्ञान सच का अन्वेषण करता है अनवरत उसके लिए कोई सत्य अंतिम नहीं है .आग्रह मूलक तो बिलकुल नहीं ."एक व्यक्ति एक साथ दो जगह उपस्थित नहीं हो सकता .कोई कण प्रकाश के वेग का अतिक्रमण नहीं कर सकता हो सकता है यह अवधारणा कल गिर जाए .प्रोटोन भी विखंडित हो जाए बिखर जाए क्वार्क -प्रति क्वार्कों में .संरचना तो उसमे आज भी हैं .
    आशीष जी बहुत अच्छे आलेख और सन्दर्भ सामिग्री मुहैया करवाई है आपने .बधाई के पात्र हैं आप .
    विशेष :जहां तक एस्त्र्लोजिकल प्री -डिक-शन का सवाल है कोई एक मेथोदोलोजी ही नहीं है कोई नौ से कोई आठ ग्रहों से गणनाकरता है कोई राहू केतु को भी समायोजित करता है .सातों दिन भगवान् के क्या मंगल क्या बीर .

    ReplyDelete
  6. जी हाँ मान्यता और हमारे मूल विश्वास यहाँ तक की अर्जित जानकारी भी देखी गई चीज़ को असर ग्रस्त कर सकतें हैं .इसलिए कहा भी गया -"जिन खोजा तिन पाइयां..." और यह भी -"जा -की रही भावना जैसी परभू मूरत देखी तिन तैसी.
    (2)The very process of perception effects what is being seen ,position and time of an event can not be accurately determined .(Uncertainty Principle. ).
    (३)आखिर देखने की जानने की भी सीमाएं हैं ,सृष्टि का बहुलांश इसीलिए अज्ञेय ,अनुमेय ही बना हुआ है .बेशक रेडिओ -दूरबीनों की भी सुदूर अन्तरिक्ष से आते पिंडों से निसृत संकेतों को पकड़ने टोहने की सीमाएं हैं ,फिर मानवीय दर्शन सम्पूर्ण और निर्दोष कैसे हो सकता है .अलबत्ता केवल देखने की प्रक्रिया ही सत्य है ,जो देखा जा रहा है वह गलत हो सकता है .
    (४)जी हाँ मेक एंड बिलीफ पर चली आई मौखिक परम्परा भी अपने साथ अनेकों जन -आस्थाएं लिए आती है .
    (५)क्रत्रिम बुद्धि लेब में नहीं गढ़ी जा सकती यह चर्च का दुराग्रह है .केवल ईश्वर ही बुद्धिमान प्राणियों का सृजन कर सकता है यह भी आग्रह -मूलक विश्वाश और जिद से ज्यादा कुछ नहीं है .क्लोनिग इसका प्रमाण है .
    (६)हां विज्ञान प्रमाण मानता है .माँगता है कोई कहे के आत्मा का अस्तित्व है तो विज्ञानी कहेगा ,भैया आत्मा है तो लाओ उसे लेब में देखें आज़माइश करके .क्या होती है सचेतन ऊर्जा ?
    (७)अफवाहों के पंख नहीं होते यह ऐसा पंछी है बिना परों के परवाज़ भरता है ऊंची और ऊंची .
    (८)जी हाँ आग पर चलना कोई चमत्कार नहीं है चमड़ी को जलने में तीन सेकिंड लगतें हैं उससे पहले आप स्पर्श बिंदु चमड़ी और आग के बीच का अभ्यास से बदल सकतें हैं .
    (९)विज्ञान सच का अन्वेषण करता है अनवरत उसके लिए कोई सत्य अंतिम नहीं है .आग्रह मूलक तो बिलकुल नहीं ."एक व्यक्ति एक साथ दो जगह उपस्थित नहीं हो सकता .कोई कण प्रकाश के वेग का अतिक्रमण नहीं कर सकता हो सकता है यह अवधारणा कल गिर जाए .प्रोटोन भी विखंडित हो जाए बिखर जाए क्वार्क -प्रति क्वार्कों में .संरचना तो उसमे आज भी हैं .
    आशीष जी बहुत अच्छे आलेख और सन्दर्भ सामिग्री मुहैया करवाई है आपने .बधाई के पात्र हैं आप .
    विशेष :जहां तक एस्त्र्लोजिकल प्री -डिक-शन का सवाल है कोई एक मेथोदोलोजी ही नहीं है कोई नौ से कोई आठ ग्रहों से गणनाकरता है कोई राहू केतु को भी समायोजित करता है .सातों दिन भगवान् के क्या मंगल क्या बीर .

    ReplyDelete
  7. क्या आप ब्लॉगप्रहरी के नये स्वरूप से परिचित है.हिंदी ब्लॉगजगत से सेवार्थ हमने ब्लॉगप्रहरी के रूप में एक बेमिशाल एग्रीगेटर आपके सामने रखा है. यह एग्रीगेटर अपने पूर्वजों और वर्तमान में सक्रिय सभी साथी एग्रीगेटरों से कई गुणा सुविधाजनक और आकर्षक है.

    इसे आप हिंदी ब्लॉगर को केंद्र में रखकर बनाया गया एक संपूर्ण एग्रीगेटर कह सकते हैं. मात्र एग्रीगेटर ही नहीं, यह आपके फेसबुक और ट्वीटर की चुनिन्दा सेवाओं को भी समेटे हुए है. हमारा मकसद इसे .सर्वगुण संपन्न बनाना था. और सबसे अहम बात की आप यहाँ मित्र बनाने, चैट करने, ग्रुप निर्माण करने, आकर्षक प्रोफाइल पेज ( जो दावे के साथ, अंतरजाल पर आपके लिए सबसे आकर्षक और सुविधाजनक प्रोफाइल पन्ना है), प्राइवेट चैट, फौलोवर बनाने-बनने, पसंद-नापसंद..के अलावा अपने फेसबुक के खाते हो ब्लॉगप्रहरी से ही अपडेट करने की आश्चर्यजनक सुविधाएं पाते हैं.

    सबसे अहम बात , कि यह पूर्ण लोकतान्त्रिक तरीके से कार्य करता है, जहाँ विशिष्ट कोई भी नहीं. :)

    कृपया पधारें.. और एक एग्रीगेटर. माइक्रो ब्लॉग जैसे ट्वीटर और सोशल नेट्वर्क..सभी की सुविधा एक जगह प्राप्त करें .. हिंदी ब्लॉग्गिंग को पुनः लयबद्ध करें.
    http://blogprahari.com
    टीम ब्लॉगप्रहरी

    ReplyDelete
  8. व्हाई पीपल बिलीव वीअर्ड थिंग्स का इतना सुन्दर सार संक्षेप -आशीष जी आप तो सचमुच कमाल करते हो ...
    मैं भी वीरू भाई के पदचिह्नों पर कुछ जोड़ना चाहता हूँ -
    आम मनुष्य का मूल स्वभाव ही है चमत्कार के प्रति नतमस्तक होने का ....यह भाव उसके मन का अंतर्निहित भाव है ....उसकी यही प्रवृत्ति ईश्वर तक का अन्वेषण कर गयी ....चमत्कार को नमस्कार कर उसकी एक आदिम प्रवृत्ति तुष्ट होती है ..वह थोडा डर ,विस्मय और अज्ञात के प्रति प्रशंसा ,जिज्ञासा भाव से ईंटरैक्ट करता रहता है -उसकी जिज्ञासु प्रवृत्ति ने कई खोजें की ,विज्ञानं की पद्धति खोज डाली ..मगर आज भी वह चमत्कार के प्रति सहज ही आकृष्ट होता है -यह एक बड़ा विषय है और विस्तृत विवेचना मांगता है -इसे टिप्पणी तक सीमित करने पर कई गलतफहमियां उत्पन्न हो सकती हैं इसलिए मुल्तवी करता हूँ कभी वीरू भाई के साथ मिल बैठ कर बतियाते हैं !तब तक चमत्कार को नमस्कार चाहे पास या दूर से ....च्वायस इज योर्स!

    ReplyDelete
  9. क्या भगवान का आस्तित्व है ?
    हां।
    तुम्हे कैसे मालूम ?
    मेरे धर्मग्रंथ मे लिखा है।
    तुम कैसे कह सकते हो कि तुम्हारा धर्मग्रंथ सही है ?
    क्योंकि उसे भगवान ने लिखा है।
    कैसे मालोम की भगवान् ने लिखा है?
    क्यों की उसमें जो लिखा है वो हमेशा सत्य साबित हुआ है और हो रहा है.
    तब तो कोई शक्ति है जिसने हमें बनाया और जीवन कैसे गुज़रें, हम कौन हैं यह बताने के लिए धर्म ग्रन्थ भी दिया.

    ReplyDelete
  10. चमत्कार उसे कहते हैं जो इंसानी दिमाग को समझ मैं ना आयी? हजारों साल पहले टीवी जैसे उपकरण चमत्कार थे आज विज्ञान की इजाद. इसी लिए ज्ञानिओं के साथ उठने बैठने पे इस्लाम ने ज़ोर दिया है. ऐसा करने से अंधविश्वासों से दूर रह सकते हो.
    वैसे यह लेख़ बहुत से ऐसे सवाल भी खड़ा कर रहा है जिनके जवाब नहीं इंसानों के पास.

    ReplyDelete
  11. आशीष जी, कल रात में पोस्‍ट को पब्लिश करते समय कुछ नींद की खुमारी और कुछ पत्‍नी के भय के कारण काम चलाऊ टिप्‍पणी की। अब विस्‍तृत टिप्‍पणी के साथ पुन: हाजिर हूं।


    लोग चमत्‍कारों पर विश्‍वास क्‍यों करते हैं, यह एक बहुत गहरा प्रश्‍न है। मेरे विचार में इसके मूल में हमारा आस्तिक समाज है। हम पैदा होने के साथ ही बच्‍चों को यह बताने में लग जाते हैं कि ईश्‍वर बहुत शक्तिशाली है, वह सर्वशक्तिमान है, उसकी मर्जी के बिना पत्‍ता भी नहीं हिलता, उसने फलां फलां समय में ऐसी अदभुत घटनाएं की, उसने फलां-फलां लोगों को देखते ही देखते राजा से रंक और रंक से राजा बना दिया, उसने धरती फोड़ कर अमृत के फव्‍वारे निकाल दिये, उसने देखते ही देखते आसमानी बिजली से संसार को ध्‍वस्‍त कर दिया, उसकी प्रार्थना में गजब की शक्ति होती है, उसकी कृपा हो जाए तो तुम सब कुछ पा सकते हो वगैरह-वगैरह।
    अब ऐसे माहौल में पला-पढ़ा बच्‍चा चमत्‍कारों को क्‍यों नहीं मानेगा। जितने भी चमत्‍कारी व्‍यक्ति होते हैं, वे सदैव धर्म का चोगा ओढ़े रहते हैं। और चूंकि मनुष्‍य को बचपन से घुटटी पिलाई गयी है कि धर्म के द्वारा कुछ भी संभव है, इसलिए वह उस चमत्‍कार को भी किस्‍से कहानियों की तरह ही ईश्‍वरी शक्ति का नमूना मानते हुए उसपर सहज रूप से यकीन कर लेता है।

    ReplyDelete
  12. अवैज्ञानिक सोच हमें बचपन से ही संस्कारों के रूप में मिलती है। बड़े जब मंदिरों में मूर्ति को दूध पिलाते हैं। तो बच्चे बार-बार उन्हें और बहुत से लोगों को ऐसा करते देख खुद भी ऐसा करने लगते हैं। यहाँ उनका कॉमन सेंस काम नहीं करता कि मूर्तियां दूध नहीं पीती। सार्थक पोस्ट आभार।

    पढ़ें- भूत का मंत्र

    ReplyDelete
  13. चमत्‍कारों पर यकीन करने का दूसरा प्रमुख कारण यह भी है कि मनुष्‍य मूल रूप से एक डरपोक प्राणी है। परलोक का भय, असफलता का भय, अपशकुन का भय उसके जींस में घुसा हुआ है। वह सोचता है कि कहीं ईश्‍वर के किसी चमत्‍कार पर यकीन न करके मैं उसे रूष्‍ट न कर दूं, उसके प्रकोप का भागी न बन जाऊं। इसीलिए ईश्‍वर का नाम और उससे जुडी कोई भी बात सामने आते ही, चाहे वह कितनी भी बेसिरपैर की क्‍यों न हो, वह अपनी बुद्धि और ज्ञान को ताक पर रखते हुए उसके आगे नतमस्‍तक हो जाता है।

    ReplyDelete
  14. मेरे विचार में इसका तीसरा कारण है इंसान का लालच। आज हर व्‍यक्ति की आंखों में सुख सुविधाओं के सपने मिचमिचाते रहते हैं। व्‍यक्ति दुनिया में उपलब्‍ध हर सुविधा का भोग करना चाहता है। इसके लिए वह शार्टकट और फंडों की तलाश में भटकता रहता है। वह इन मौकों को तीर्थों, गुरूओं बाबाओं, पूजा पद्वितियों में भी खोजता रहता है। तथाकथति चमत्‍कारी लोग मनुष्‍य की आदिम प्रवृत्ति का फायदे उठाते हैं और उनके सामने तथाकथित चमत्‍कार दिखाकर उन्‍हें उल्‍लू बना देते हैं।

    ReplyDelete
  15. जो चीज़ समझ मैं ना आये या जिस से नुकसान होने का डॉ हो उस से डरना या दूर भागना हर एक जीव का फितरती मिज़ाज है. इंसान पहले डरता है फिर उसके बारे मैं पता करता है और फिर उसका इस्तेमाल करता है. आग जब इंसान ने देखा तो पहले डरा, फिर देवी देवता का दर्जा दिया और अब उसका इस्तेमाल करता है.
    इश्वर आग नहीं बल्कि इश्वर उस आग को बनाने वाला हुआ करता है.

    ReplyDelete
  16. मेरे विचार में इसका तीसरा कारण है इंसान का लालच। आज हर व्‍यक्ति की आंखों में सुख सुविधाओं के सपने मिचमिचाते रहते हैं। व्‍यक्ति दुनिया में उपलब्‍ध हर सुविधा का भोग करना चाहता है। इसके लिए वह शार्टकट और फंडों की तलाश में भटकता रहता है। वह इन मौकों को तीर्थों, गुरूओं बाबाओं, पूजा पद्वितियों में भी खोजता रहता है। तथाकथति चमत्‍कारी लोग मनुष्‍य की आदिम प्रवृत्ति का फायदे उठाते हैं और उनके सामने तथाकथित चमत्‍कार दिखाकर उन्‍हें उल्‍लू बना देते हैं।

    ReplyDelete
  17. अच्छी पोस्ट। बधाई! ऐसे ही जनजागरूकता करते रहें.

    ReplyDelete
  18. मासूम जी,

    यह पोष्ट कहीं पर भी ईश्वर का विरोध नही कर रही है। आपने पोष्ट मानव द्वारा चमत्कारो पर विश्वास करने के कारणो की पड़ताल कर रही है।

    वैसे यह लेख़ बहुत से ऐसे सवाल भी खड़ा कर रहा है जिनके जवाब नहीं इंसानों के पास
    आज जवाब नही है, इसका अर्थ यह नही कि कल जवाब नही होंगे !

    क्यों की उसमें जो लिखा है वो हमेशा सत्य साबित हुआ है और हो रहा है.
    तब तो कोई शक्ति है जिसने हमें बनाया और जीवन कैसे गुज़रें, हम कौन हैं यह बताने के लिए धर्म ग्रन्थ भी दिया

    क्षमा किजिये लेकिन आप इस लेख का पहला बिन्दु देखें। मानव मन अपनी मान्यताओं से बंधा होता है, उससे बाहर देखना उसके लिए आसान नही होता।
    आइन्सटाईन ने अपने सिद्धांतो के सत्यापन के लिए ४०० वर्ष पुराने न्युटन के सिद्धांतो के बाहर जाकर सोचा था, तभी उन्हे सफलता मीली थी। लेकिन बाद मे उसी आइन्स्टाईन ने अपनी मान्यताओं के दायरे मे बंधे रह कर अनिश्चितता के सिद्धांत पर कहा था "भगवान पांसे नही खेलता"! आज हम जानते है कि आइन्सटाईन गलत थे!

    ReplyDelete
  19. आपका वैज्ञानिक आधार पर तर्क पसंद आता है.

    ReplyDelete
  20. विज्ञान =किसी भी विषय का क्रमबद्ध और नियमबद्ध अदयान .केवल प्रयोगशाला में बेकार द्वारा प्रयोग करना ही विज्ञान भर नहीं है.

    धर्म=जो धारण करता है न कि वह जो दलालों द्वारा प्रचारित किया जाता है.

    भगवान=भूमि,गगन,वायु,अनल(अग्नि),और नीर(जल)के प्रथमाक्षरों के समन्वय से बना शब्द जो पञ्च तत्वों का प्रतीक है न कि ढोंग-पाखण्ड द्वारा प्राचारित कोई नाम विशेष.

    अज्ञान प्रमुख कारण है चमत्कारों पर विशवास करने का.

    ReplyDelete
  21. त्रुटी सुधर-कृपया उपरोक्त टिप्पणी में बेकार को बीकर पढ़ें.

    ReplyDelete
  22. दरअसल लोग दि‍माग का कम से कम इस्‍तेमाल करना चाहते हैं, जो चल रहा है चलने दो में ज्‍यादा श्रद्धा रखते हैं। प्रत्‍येक व्‍यक्‍ि‍त का अपना कोकून हैं कोई इससे बाहर नि‍कलना ही नहीं चाहता, असुविधा नहीं चाहता। इसके बाद सुवि‍धा कहीं चली ना जाये यह भय भी है। तो चमत्‍कार ही नहीं सारी पकी पकाई चीजों पर वि‍श्‍वास करता है जैसे ग्रंथकि‍ताबें, नेता, गुरू, पथप्रदर्शक, रीति‍रि‍वाज और जो भी रेडीमेड मि‍ल जाये सब चीजों में। क्‍योंकि‍ ये सब चीजें तय हैं, इनके नफेनुक्‍सान से वाकि‍फ हैं, ये सब जाना हुआ और ज्ञात है... अज्ञात में उतरना कोई नहीं चाहता।

    ReplyDelete
  23. Bahut achha article likha hai .
    Congrates Ashish.

    ReplyDelete
  24. रोचक,उपयोगी और जानकारीपूर्ण लेख

    ReplyDelete
  25. अच्छी पोस्ट किन्तु बहुत ही बड़ी है | पर ये बात भी सच है की चमत्कार आदि में विश्वास करने वालो को मन में ये सारी बाते इतनी गहरे तक बैठी होती है की कई बार आप लाख तर्क दे लोग आप की सुनने को तैयार ही नहीं होते है उनका विश्वास भी अडिग ही बना होता है |

    ReplyDelete
  26. चमत्कार के विविध पक्षों की समग्र विवेचना करती पोस्ट. आभार.

    ReplyDelete
  27. बाकी सब तो सही है
    मगर

    आपकी वो बात मुझे पूरी पोस्ट से अलग लगी

    विज्ञान में
    gravity क्या है ?
    phonemonon of attraction b/w two objects
    How do objects attract
    due to gravity

    क्या विज्ञान भी ऐसे चक्र इस्तेमाल कर के चीजों को prove करता है?

    ReplyDelete
  28. One of the best post ever.

    ReplyDelete
  29. .
    .
    .
    बहुत ही सार्थक, प्रभावी व शानदार पोस्ट... बुकमार्क कर लिया है और सभी को पढ़ाउंगा भी...
    चमत्कारों के बारे में बचपन में कहीं पढ़ा था और बार-बार दोहराता हूँ वह यहाँ भी दोहराना चाहूँगा...

    जिसे विज्ञान के ज्ञात नियमों के प्रकाश में समझाया न जा सके अथवा किसी दूसरे मानव द्वारा उसी जैसी परिस्थितियों में दोहराया न जा सके, ऐसा चमत्कार पूरे मानव इतिहास में न कोई कर पाया है और न ही कभी कोई कर पायेगा !

    और यह मासूम जी क्या कहना चाहते हैं यहाँ, कुछ समझ नहीं आता साफ-साफ... दो नावों की सवारी एक साथ करने की कोशिश करते दिखते हैं वे... जो निश्चित ही अच्छा नजारा नहीं है...


    ...

    ReplyDelete
  30. योगेश जी दो वस्तुएं एक दूसरे को इस लिए परस्पर अपनी अपनी और खींचती है क्योंकि दोनों के बीच एक फील्ड कण (परिकल्पित कण )ग्रेविटोंन का आदान प्रदान होता है .यह विनिमय इतना द्रुत गामी है इसके चित्र भी नहीं लिए जा सकते .इलेक्त्रों प्रोटोन भी परस्पर सिर्फ इसलिए आकर्षित नहीं करते ,की विपरीत आवेश लिए हैं बल्कि इनके बीच भी एक फील्ड पार्तिकिल का विनिमय चलता है .फोटोंन का .इसलिए गुरुत्व इस आयोजना से अलग नहीं है .विज्ञान में कार्य -कारन सम्बन्ध मौजूद हैं .रामचरित मानस के दोहों ,सोरठों, चौपाई की तरह इसकी व्याख्या नहीं है .सिद्धान्तिक गवेश्नाएं हैं प्रमाण हैं .

    ReplyDelete
  31. काफी जानकारीवर्धक पोस्ट लिखी आपने . सबसे पहले इसके लिए धन्यवाद !
    जहा तक चमत्कारों के विस्वास का सवाल है तो मै ये कहूँगा कि बहुत पहले युगों से ही हमारे देश में तरह तरह के चमत्कार होते आये है . जैसी कि आज कल धार्मिक धारावाहिकों में दिखाया ज़ाता है भगवान् जी के द्वारा किये गये चमत्कारों को . अगर हम किसी अन्य देश में चमत्कारों कि बात करे तो आपको अन्य देशो में एस तरह के चमत्कार देखने को काफी कम मिलेंगे . लेकिन कुछ चमत्कार दुसरे देशो में भी मिलेंगे मगर उनकी संख्या हमारे देश कि धरती पर हुए चमत्कारों से कम है ! ऐसा क्यों ? जहा तक मै सोचता हूँ ये सब लोगो कि सोच पर निर्भर करता है अगर वो चाहे तो किसी भी चीज़ या घटना को बिना वैज्ञानिक सोच के ही चमत्कार बना दे . जैसा कि होता ही रहता है. मुझे अपने गाँव कि एक घटना याद आ रही है जिसमे एक बहुत बड़ा सर्प एक गन्ने के खेत में एक कोने पर कुछ लोगो को दिखाई दिया वो , पहले तो किसी ने कोई ध्यान नहीं दिया एस और लेकिन जब वो सर्प और भी लोगो को उसी स्थान पर दिखाई दिया तो फिर वो उसको चमत्कार मानने लगे और फिर तरह तरह कि बाते होने लगी जैसे कि इतना भारी वजन का साप गन्ने के हलके से पत्ते पर लटका रहता है और गिरता भी नहीं ,और ना ही वो लोगो को देखकर या उनकी आवाज़ सुनकर कही ज़ाता था बस वही एक जगह रहता था . लोगो का वहा पर मेला सा लगने लगा . कुछ लोग तो उस पर हाथ भी फेरते थे और वो किसी को कुछ नहीं कहता था , धीरे धीरे लोगो ने उसको दूध पिलाना सुरु किया , वहा पर पूजा अर्चना करनी सुरु कर दी , जब हमारे यहाँ के दरोगो जी को ये बात पाता लगी तो वो वहा आये और उन्होने उस साप को देखकर उसको किसी लकड़ी कि मदद से दूर फ़ेंक दिया और लोगो से कहा कि वहा कोई ड्रामा ना करे . सब अपने अपने घर जाये. जैसे ही दरोगा जी वापिस थाणे गये तो उनकी मोटर सायकिल गिर गयी और उनको काफी चोट आई , बस फिर क्या तह फिर तो दरोगा जी भी वहा अपनी गलती के लिए माफ़ी मागने आये . नाग देवता जी फिर बापस उस ही जगह पर आ गये ,और कही नहीं गये . जिससे लोगो का विस्वास और बढ गया और वहा नाग देवता जी के लिए मंदिर के लिए लगभग एक बीघा जमीन उस किसान से फ्री में ली गयी जिसके खेत में नाग देवता जी दिखाई दिए थे . ये सब कहानी सुनते आस पास के गाँव से लोग वहा आने लगे . २० दिनों तक ये सब चलता रहा २१ बे दिन नाग देवता जी नहीं रहे और उनकी अंतिम यात्रा में लोगो कि काफी भीड़ जमा हुयी बाद में उनको वही दफनाया गया जहा वो प्रिकट हुए थे आज भी वहा उनकी समाधि बनी हुयी है . लेकिन असली चमत्कार तो तब हुआ जब उसी स्थान पर अगले दिन एक और दूसरा साप दिखाई दिया पर वो नाग देवता जी कि तरह नहीं था वो केवल एक दिन वहा दिखाई दिया फिर नहीं .. आज हमारे यहाँ के लोग हर फसल में वहा मंदिर बनवाने के लिए चंदा लेते हैं. और अब तक ४ लाख से ज्यादा चंदा आ भी चूका है पर अभी तक कोई मंदिर नहीं बना वहा पर बस उसकी नीव राखी गयी है और ३ कमरे बने है वहा साधू बाबा के रहने के लिए जिसमे एक ढोंगी साधू रहता था जो गाँव के ही कुछ लोगो के साथ मिलकर वहा शराब पीता था वहा , भांग भी चलती थी वहा पर . अब वहा कोई साधू नहीं है पर जो भी साधू आता है यही कर्म करता है .

    इस घटना को देखकर समझ नहीं आता कि ये चमत्कार है या फिर कुछ और
    जो भी हो पर एक बात मै कह सकता हूँ कि कही ना कही हमारे देश में लोगो कि ढोंगी धार्मिक सोच भी कुछ घटनाओं को चमत्कार बना देती है. धार्मिक होना कोई पाप नहीं है मै भी धार्मिक हूँ , पर धर्म के नाम पर दिखावा करना, घटनाओं को चमत्कार बताना ये सही नहीं है . चमत्कार को जादूगर भी करता है पर वो सिर्फ उसके हाथ कि स्पीड और हमारी नज़र का खेल होता है.

    ReplyDelete
  32. बहुत ही बढि़या विश्‍लेषणात्‍मक एवं जागरुक करने वाली पोस्‍ट।

    ReplyDelete
  33. प्रशंसनीय.

    ReplyDelete
  34. आइन्सटाईन ने अपने सिद्धांतो के सत्यापन के लिए ४०० वर्ष पुराने न्युटन के सिद्धांतो के बाहर जाकर सोचा था, तभी उन्हे सफलता मीली थी। लेकिन बाद मे उसी आइन्स्टाईन ने अपनी मान्यताओं के दायरे मे बंधे रह कर अनिश्चितता के सिद्धांत पर कहा था "भगवान पांसे नही खेलता"! आज हम जानते है कि आइन्सटाईन गलत थे!


    is par zara aur raushni dalein...

    Vo kaun se laws the, jinko Einstein ne galat prove kiya tha.... I want to know more about it...

    aur BHAGWAAN PAASE NAHI KHELTA.......iska arth?

    ReplyDelete
  35. छद्म विज्ञानी matlab?

    ReplyDelete
  36. मै दावा करता हूं कि सूर्य मेरे आदेश से निकलता है, कोई इसे असत्य साबित कर के दिखाये !

    Janaab !!! kabhi raat me sooraj nikaal ke dikhaaiye :)

    ReplyDelete
  37. चमत्कारों को ध्वस्त करती इतनी बढ़िया पोस्ट पहले नहीं पढ़ी. आभार आपका. आपकी अनुमति हो तो इसे अपने ब्लॉग पर ले जाऊँ.

    ReplyDelete
  38. न्युटन के गुरुत्व के नियम पूरी तरह से सहि नही है। वे बुध ग्रह की कक्षा की व्याख्या नही करते। उसके लिये सापेक्षतावाद का सिद्धान्त चाहीये। आइन्सटाईन ने थ्योरी आफ़ अनसर्ट्नीटी मानने से इन्कार किया था और कहा था भगवान पान्से नही खेलता। उन्होने अपने जीवन के 30 वर्ष(1925 - 1955) इसे झुठ्लाने मे लगाये।

    रात मे सूरज निकालना! मुझे सोने के लिये समय चाहीये!

    ReplyDelete
  39. छद्म विज्ञानी - झूठे विज्ञानी! जो विज्ञान के तथ्यो को तोड मरोड कर अन्ध विश्वास को बढावा दे।

    ReplyDelete
  40. अच्छी जानकारी।
    बधाई

    ReplyDelete
  41. --यह ठीक उसी तरह है जिस तरह इतनी लंबी,
    मान्यता द्वारा निरिक्षण पर प्रभाव:---जैसा हर बात में वैज्ञानिक मान्यता का चश्मा चढाये लोग....उससे आगे नहीं सोच पाते..
    --अंग्रेज़ी से अंतरित की गयी, शब्दों व वाक्यों से कन्फ्यूज़न उत्पन्न करने वाली पोस्ट को पढ़े बिना ही सब मान ही लेंगे कि अंधविश्वास पर लिखा है तो अच्छा ही होगा...
    ---१०० वर्ष पहले जीवाणु, परमाणु एक रहस्य हुआ करते थे। --ये किसने कह दिया ...जीवाणु, परमाणु तो १०००० हज़ार वर्ष पहले भी पता था..और आधुनिक युग में पिछली सदी में भी...
    ---कोलंबस का उदाहरण मान्यता का नहीं अपितु भूल का है और यहाँ अनावश्यक है...क्योंकि बाद में उसे व दुनिया को अपनी भूल का पता चल गया था...

    ReplyDelete
  42. उत्तम पोस्ट के लिए आभार

    ReplyDelete
  43. चमत्कार पर विश्वास क्यों करते हैं? इस विषय पर अच्छी प्रस्तुति। तर्क शास्त्र और तर्कशीलता का अभाव अवैज्ञानिक सोच को जन्म देता है। आपका लेख पढ़कर लगा कि इसके बाद लोगों की सोच में बदलाव आएगा।

    ReplyDelete
  44. उपयोगी और जानकारीपूर्ण लेख

    ReplyDelete
  45. भुषण जी,

    कोई कापीराईट नही है, आप इसे अपने ब्लाग पर सहर्ष लगा सकते है।

    ReplyDelete

Name

- दर्शन लाल बावेजा,1,- बी एस पाबला,1,-Dr. Prashant Arya,2,-अंकित,4,-अंकुर गुप्ता,7,-अभिषेक ओझा,2,-अल्पना वर्मा,22,-आशीष श्रीवास्‍तव,2,-इन्द्रनील भट्टाचार्जी,3,-काव्या शुक्ला,2,-जाकिर अली ‘रजनीश’,56,-जी.के. अवधिया,6,-जीशान हैदर जैदी,45,-डा प्रवीण चोपड़ा,4,-डा0 अरविंद मिश्र,26,-डा0 श्‍याम गुप्‍ता,5,-डॉ. गुरू दयाल प्रदीप,8,-डॉ0 दिनेश मिश्र,5,-दर्शन बवेजा,1,-दर्शन लाल बवेजा,7,-दर्शन लाल बावेजा,2,-दिनेशराय द्विवेदी,1,-पवन मिश्रा,1,-पूनम मिश्रा,7,-बालसुब्रमण्यम,2,-योगेन्द्र पाल,6,-योगेश,1,-रंजना [रंजू भाटिया],22,-रेखा श्रीवास्‍तव,1,-लवली कुमारी,3,-विनय प्रजापति,2,-वीरेंद्र शर्मा(वीरुभाई),81,-शिरीष खरे,2,-शैलेश भारतवासी,1,-संदीप,2,-सलीम ख़ान,13,-हिमांशु पाण्डेय,3,.संस्‍था के उद्देश्‍य,1,।NASA,1,(गंगा दशहरा),1,100 billion planets,1,2011 एम डी,1,22 जुलाई,1,22/7,1,3/14,1,3D FANTASY GAME SPARX,1,3D News Paper,2,5 जून,1,Acid rain,1,Adhik maas,1,Adolescent,1,Aids Bumb,1,aids killing cream,1,Albert von Szent-Györgyi de Nagyrápolt,1,Alfred Nobel,1,aliens,1,All india raduio,1,altruism,1,AM,18,Aml Versha,1,andhvishwas,5,animal behaviour,1,animals,1,Antarctic Bottom Water,1,Antarctica,9,anti aids cream,1,Antibiotic resistance,1,arunachal pradesh,1,astrological challenge,1,astrology,1,Astrology and Blind Faith,1,astrology and science,1,astrology challenge,1,astronomy,4,Aubrey Holes,1,Award,4,AWI,1,Ayush Kumar Mittal,2,bad effects of mobile,1,beat Cancer,1,Beauty in Mathematics,1,Benefit of Mother Milk,1,benifit of yoga,1,Bhaddari,1,Bhoot Pret,3,big bang theory,1,Binge Drinking,1,Bio Cremation,1,bionic eye Veerubhai,1,Blind Faith,4,Blind Faith and Learned person,1,bloggers achievements,1,Blood donation,1,bloom box energy generator,1,Bobs Award,1,Breath of mud,1,briny water,1,Bullock Power,1,Business Continuity,1,C Programming Language,1,calendar,1,Camel reproduction centre,1,Carbon Sink,1,Cause of Acne,1,Change Lifestyle,1,childhood and TV,1,chromosome,1,Cognitive Scinece,1,comets,1,Computer,2,darshan baweja,1,Deep Ocean Currents,1,Depression Treatment,1,desert process,1,Dineshrai Dwivedi,1,DISQUS,1,DNA,3,DNA Fingerprinting,1,Dr Shivedra Shukla,1,Dr. Abdul Kalam,1,Dr. K. N. Pandey,1,Dr. shyam gupta,1,Dr.G.D.Pradeep,9,Drug resistance,1,earth,28,Earthquake,5,Einstein,1,energy,1,Equinox,1,eve donation,1,Experiments,1,Facebook Causes Eating Disorders,1,faith healing and science,1,fastest computer,1,fibonacci,1,Film colourization Technique,1,Food Poisoning,1,formers societe,1,gauraiya,1,Genetics Laboratory,1,Ghagh,1,gigsflops,1,God And Science,1,golden number,2,golden ratio,2,guest article,9,guinea pig,1,Have eggs to stay alert at work,1,Health,72,Health and Food,14,Health and Fruits,1,Heart Attack,1,Heel Stone,1,Hindi Children's Science Fiction,1,HIV Aids,1,Human Induced Seismicity,1,Hydrogen Power,1,hyzine,1,hyzinomania,1,identification technology,2,IIT,2,Illusion,2,immortality,2,indian astronomy,1,influenza A (H1N1) virus,1,Innovative Physics,1,ins arihant,1,Instant Hip Hain Relief,1,International Conference,1,International Year of Biodiversity,1,invention,5,inventions,30,ISC,2,Izhar Asar,1,Jafar Al Sadiq,1,Jansatta,1,japan tsunami nature culture,1,Kshaya maas,1,Laboratory,1,Ladies Health,5,Lauh Stambh,1,leap year,1,Lejend Films,1,linux,1,Man vs.Machine,1,Manish Mohan Gore,1,Manjeet Singh Boparai,1,MARS CLIMATE,1,Mary Query,2,math,1,Medical Science,2,Memory,1,Metallurgy,1,Meteor and Meteorite,1,Microbe Power,1,Miracle,1,Misconduct,3,Mission Stardust-NExT,1,MK,73,Molecular Biology,2,Motive of Science Bloggers Association,1,Mystery,1,Nature,1,Nature experts Animal and Birds,1,Negative Effects of Night Shift,1,Neuroscience Research,1,new technology,1,NKG,4,open source software,1,Osmosis,1,Otizm,1,Pahli Barsat,1,pain killer and pain,1,para manovigyan,1,PCST 2010,5,pencil,1,Physics for Entertainment,1,PK,2,Plagiarism,5,Prey(Novel) by Michael Crichton,1,Pshychology,1,psychological therapy in vedic literature,1,Puberty,1,Rainbow,1,reason of brininess,1,Refinement,1,Research,4,Robotics,1,Safe Blogging,1,Science Bloggers Association as a NGO,2,science communication through blog writing,4,Science Fiction,16,Science Fiction Writing in Regional Languages,1,Science Joks,1,Science Journalism and Ethics,3,Science News,2,science of laughter,1,science project,1,Science Reporter,1,Science Theories,9,scientific inventions,2,Scientist,47,scientists,1,Search Engine Volunia,1,Secret of invisibility,1,Sex Ratio,1,Shinya Yamanaka,1,SI,1,siddhi,1,Solar Energy,1,space tourism,1,space travel,1,Spirituality,1,Stem Cell,1,Stephen Hawking,1,stonehenge mystery,1,Summer Solstice,1,Sunspots and climate,1,SuperConductivity,1,survival of fittest,1,sweet 31,1,Swine flue,1,taantra siddhee,1,tally presence system,1,Tantra-mantra,1,technical,1,technology,18,telomerase,1,Theory of organic evolution,1,Therapy in Rig veda,1,tokamak,1,Top 10 Blogger,1,Transit of Venus,1,TSALIIM Vigyan Gaurav Samman,1,tsunami warning,1,Tuberculosis Bacillus,1,tyndall effect,1,universe,14,Urdu Science Fiction Writer,1,vedic literature,1,VIDEO BOOK,1,Vigyan Pragati,1,Vigyan Prasar,1,Vision,1,Vividh Bharti,1,water,1,Web Technology,1,Wild life,3,Women Empowerment,1,Workshop,5,World Health Day,1,World no tobacco day,1,world trade center,1,Wormhole concept,1,Ya Perelman,1,yogendra,2,π,1,अंक,1,अंक गणित,1,अंतरिक्ष,1,अंतरिक्ष में सैर सपाटा,1,अंतरिक्ष यात्रा,1,अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन,1,अतिचालकता,1,अतीन्द्रिय दृष्टि,1,अतीन्द्रिय बोध,1,अथर्ववेद,1,अंध-विश्वास,2,अंधविश्‍वास,1,अंधविश्वास को चुनौती,3,अधिक मास,1,अध्यात्म,1,अनंत,1,अनसुलझे रहस्य,1,अन्तरिक्ष पर्यटन,3,अन्धविश्वास,3,अन्धविश्वास के खिलाफ,1,अभिषेक,8,अभिषेक मिश्र,4,अमरता,1,अम्ल वर्षा,1,अयुमु,1,अरुणाचल प्रदेश,1,अर्थ एक्सपेरीमेंट,3,अर्शिया अली,1,अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी,1,अलौकिक संगीत,1,अवसाद मुक्ति,1,अस्थि विज्ञान,1,आई आई टी,1,आई साईबोर्ग,1,आईएनएस अरिहंत,1,आकाश,1,आकाशगंगा,2,आटिज्‍म,1,आध्यात्म,1,आनंद कुमार,1,आनुवांशिक वाहक,1,आयुष मित्तल,1,आर्कियोलॉजी,1,आलम आरा,1,आविष्कार,1,आविष्कार प्रौद्योगिकी मोबाईल,1,इंटरनेट का सफर,1,इंडिव्हिजुअल व्हेलॉसिटी,1,इनविजिबल मैन,1,इन्जाज़-ऊंट प्रतिकृति,1,इन्द्रधनुष,1,इन्द्रनील भट्टाचार्जी,1,इन्द्रनील भट्टाचार्य,1,इशारों की भाषा,1,ईश्वर और विज्ञान,1,उजाला मासिक,1,उन्माद,1,उन्‍मुक्‍त,1,उप‍लब्धि,3,उबुन्टू,1,उल्‍कापात,1,उल्‍कापिंड,1,ऋग्वेद,1,एड्स जांच दिवस,1,एड्सरोधी क्रीम,1,एनिमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया,1,एल्कोहल,1,एल्फ्रेड नोबल,1,औरतों में दिल की बीमारी का खतरा,1,कदाचार,1,कपडे,1,कम्‍प्‍यूटर एवं तकनीक,4,कम्प्यूटर विज्ञान,1,करेंट साइंस,1,कर्मवाद,1,किसानों की आत्महत्याएँ,1,कीमती समय,1,कृत्रिम जीवन,1,कृत्रिम रक्‍त,1,कृषि अवशेष,1,केविन वार्विक्क,1,कैसे मजबूत बनाएं हड्डियां,1,क्रायोनिक्स,1,क्रैग वेंटर,1,क्षय मास,1,क्षेत्रीय भाषाओं में विज्ञान कथा लेखन,2,खगोल,1,खगोल विज्ञान,2,खगोल विज्ञान.,1,खगोल वेधशाला,1,खतरनाक व्‍यवहार,1,खाद्य विषाक्‍तता,1,खारा जल,1,खूबसूरत आँखें,1,गणित,3,गति,1,गर्भकाल,1,गर्भस्‍थ शिशु का पोषण,1,गर्मी से बचने के तरीके,1,गुणसूत्र,1,गेलिलियो,1,गोल्डेन नंबर,2,गौरैया,1,ग्रह,1,ग्रीष्मकालीन अयनांत,1,ग्रुप व्हेलॉसिटी,1,ग्रेफ़ाइट,1,ग्लोबल वार्मिंग,2,घाघ-भड्डरी,1,चंद्रग्रहण,1,चमत्कार,1,चमत्कारिक पत्थर,1,चरघातांकी संख्याएं,1,चार्ल्‍स डार्विन,1,चिकत्सा विज्ञान,1,चैटिंग,1,छरहरी काया,1,छुद्रग्रह,1,जल ही जीवन है,1,जान जेम्स आडूबान,1,जानवरों की अभिव्यक्ति,1,जीवन और जंग,1,जीवन की उत्‍पत्ति,1,जैव विविधता वर्ष,1,जैव शवदाह,1,ज्योतिष,1,ज्योतिष और अंधविश्वास,2,झारखण्‍ड,1,टिंडल प्रभाव,1,टीलोमियर,1,टीवी और स्‍वास्‍थ्‍य,1,टीवी के दुष्‍प्रभाव,1,टेक्‍नालॉजी,1,टॉप 10 ब्लॉगर,1,डा0 अब्राहम टी कोवूर,1,डा0 ए0 पी0 जे0 अब्दुल कलाम,1,डाइनामाइट,1,डाटा सेंटर,1,डिस्कस,1,डी•एन•ए• की खोज,3,डीप किसिंग,1,डॉ मनोज पटैरिया,1,डॉ. के.एन. पांडेय,1,डॉ० मिश्र,1,ड्रग एडिक्‍ट,1,ड्रग्स,1,ड्रग्‍स की लत,1,तम्बाकू,1,तम्‍बाकू के दुष्‍प्रभाव,1,तम्बाकू निषेध,1,तर्कशास्त्र,1,ताँत्रिक क्रियाएँ,1,थर्मोइलेक्ट्रिक जेनरेटर,1,थ्री ईडियट्स के फार्मूले,1,दर्दनाशी,1,दर्शन,1,दर्शन लाल बवेजा,3,दिल की बीमारी,1,दिव्‍य शक्ति,1,दुरबीन,1,दूरानुभूति,1,दोहरे मानदण्ड,1,धरोहर,1,धर्म,2,धातु विज्ञान,1,धार्मिक पाखण्ड,1,धुम्रपान और याद्दाश्‍त,1,धुम्रपान के दुष्‍प्रभाव,1,धूल-मिट्टी,1,नई खोजें,1,नन्हे आविष्कार,1,नमक,1,नवाचारी भौतिकी,1,नशीली दवाएं,1,नाइट शिफ्ट के दुष्‍प्रभाव,1,नारायणमूर्ति,1,नारी-मुक्ति,1,नींद और बीमारियां,1,नींद न आने के कारण,1,नेत्रदान और ब्लॉगर्स,1,नेत्रदान का महत्‍व,1,नेत्रदान कैसे करें?,1,नैनो टेक्नालॉजी,1,नॉटिलस,1,नोबल पुरस्कार,1,नोबेल पुरस्कार,2,न्‍यूटन,1,परमाणु पनडुब्‍बी,1,परासरण विधि,1,पर्यावरण और हम,1,पर्यावरण चेतना,2,पशु पक्षी व्यवहार,1,पहली बारिश,1,पाई दिवस,1,पुच्‍छल तारा,1,पुरुष -स्त्री लिंग अनुपात,1,पूर्ण अँधियारा चंद्रग्रहण,1,पृथ्वी की परिधि,3,पृथ्‍वेतर जीवन,1,पेट्रोल चोरी,1,पेंसिल,1,पैडल वाली पनडुब्बी,1,पैराशूट,1,पॉवर कट से राहत,1,पौरूष शक्ति,1,प्रकाश,2,प्रज्ञाएँ,1,प्रतिपदार्थ,1,प्रतिरक्षा,1,प्रदूषण,1,प्रदूषण और आम आदमी,1,प्ररेणा प्रसंग,1,प्रलय,2,प्रलय का दावा बेटुल्गुयेज,1,प्रसव पीड़ा,1,प्रेम में ।धोखा,1,प्रोटीन माया,1,प्लास्टिक कचरा,1,फाई दिवस,1,फिबोनाकी श्रेणी,1,फिबोनाची,1,फेसबुक,1,फ्रीवेयर,1,फ्रेंकेंस्टाइन,1,फ्रेंच किसिंग,1,बनारस,1,बायो-क्रेमेशन,1,बायोमैट्रिक पहचान तकनीकियाँ,2,बाल विज्ञान कथा,1,बालसुब्रमण्यम,6,बिग-बेंग सिद्धांत,1,बिजली,1,बिजली उत्‍पादन,1,बिजली कैसे बनती है?,1,बिजलीघर,1,बिली का विकल्‍प,1,बी0एम0डब्ल्यू0,1,बीरबल साहनी,1,बुलेटप्रूफ,1,बैल चालित पम्प,1,ब्रह्मण्‍ड,1,ब्रह्मा,1,ब्रह्माण्‍ड,1,ब्रह्माण्‍ड के रहस्‍य,1,ब्रह्मान्ड,1,ब्रेन म्‍यूजिक,1,ब्लॉग लेखन,1,ब्लॉग लेखन के द्वारा विज्ञान संचार,2,ब्लॉगिंग का महत्व,1,भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद,1,भारतीय विज्ञान कथा लेखक समिति,1,भारतीय वैज्ञानिक,2,भारतीय शोध,1,भूकंप के झटके,1,भूकम्‍प,1,भूगर्भिक हलचलें,1,मंगल,1,मधुमेह और खानपान,1,मनजीत सिंह बोपाराय,1,मनीष मोहन गोरे,1,मनीष वैद्य,1,मनु स्मृति,1,मनोरंजक गणित,1,महिला दिवस,1,माचू-पिचू,1,मानव शरीर,1,माया,1,मारिजुआना,1,मासिक धर्म,1,मिल्‍की वे,1,मिशन स्टारडस्ट-नेक्स,1,मीठी गपशप,1,मीमांसा,1,मुख कैंसर,1,मृत सागर,1,मेघ राज मित्र,1,मेडिकल रिसर्च,1,मेरी शैली,1,मैथेमेटिक्स ओलम्पियाड,1,मैरी क्‍यूरी,2,मैरीन इनोवेटिव टेक्नोलॉजीज लि,1,मोटापा,1,मोबाईल के नुकसान,1,मौसम,1,यजुर्वेद,1,युवा अनुसंधानकर्ता पुरष्कार,1,यूरी गागरिन,1,योगेन्द्र पाल,1,योगेश,1,योगेश रे,1,रक्षा उपकरण,1,राईबोसोम,1,रूप गठन,1,रेडियो टोमोग्राफिक इमेजिंग,1,रैबीज,1,रोचक रोमांचक अंटार्कटिका,4,रोबोटिक्स,1,लखनऊ,1,लादेन,1,लालन-पालन,1,लिनक्स,1,लिपरेशी,1,लीप इयर,1,लेड,1,लॉ ऑफ ग्रेविटी,1,लोक विज्ञान,1,लौह स्तम्भ,1,वजन घटाने का आसान तरीका,1,वाई गुणसूत्र,1,वायु प्रदुषण,1,वाशो,1,विज्ञान,1,विज्ञान कथा,3,विज्ञान कथा सम्मेलन,1,विज्ञान के खेल,2,विज्ञान चुटकले,1,विज्ञान तथा प्रौद्यौगिकी,1,विज्ञान प्रगति,1,विज्ञान ब्लॉग,1,विज्ञापन,1,विटामिनों के वहम,1,विद्युत,1,विवेकानंद,1,विवेचना-व्याख्या,1,विश्व नि-तम्बाकू दिवस,1,विश्व पर्यावरण दिवस,1,विश्व भूगर्भ जल दिवस,1,विष्णु,1,वीडियो,1,वीडियो बुक,1,वैज्ञानिक दृष्टिकोण,1,वैद्य अश्विनी कुमार,1,वोस्तोक,1,व्‍यायाम के लाभ,1,व्हेलॉसिटी,1,शिव,1,शुक्र पारगमन,1,शुगर के दुष्‍प्रभाव,1,शून्य,1,शोध परिणाम,1,शोधन,1,श्रृष्टि का अंत,1,सं. राष्ट्रसंघ,1,सकारात्‍मक सोच का जादू,1,संक्रमण,1,संख्या,1,संजय ग्रोवर,1,संज्ञात्मक पक्षी विज्ञान,1,सटीक व्‍यायाम,1,संत बलबीर सिंह सीचेवाल,1,सत्यजित रे,1,समय की बरबादी को रोचकने के उपाय,1,समाज और हम,1,समुद्र,1,संयोग,1,सर चन्द्रशेखर वेंकट रमन राष्ट्रीय विज्ञान दिवस,1,सर्प संसार,1,साइकोलोजिस्ट,1,साइनस उपचार,1,साइंस ब्लागर्स मीट,1,साइंस ब्लागर्स मीट.,2,साइंस ब्लॉग कार्यशाला,2,साइंस ब्लॉगर्स असोसिएशन अवार्ड,1,साइंस ब्लॉगर्स असोसिएशन रजिस्ट्रेशन,1,साइंस ब्लॉगर्स ऑफ दि ईयर अवार्ड,1,साइंस ब्लोगिंग,1,साईकिल,1,सामवेद,1,सामाजिक अभिशाप,1,सामाजिक चेतना,1,साहित्यिक चोरी,2,सिगरेट छोड़ें,1,सी. एस. आई. आर.,1,सी.वी.रमण विज्ञान क्लब,1,सीजेरियन ऑपरेशन,1,सुपर अर्थ,1,सुपर कम्प्यूटर,1,सुरक्षित ब्लॉगिंग,1,सूर्यग्रहण,2,सृष्टि व जीवन,3,सेक्स रेशियो,1,सेहत की देखभाल,1,सोशल नेटवर्किंग,1,स्टीफेन हाकिंग,1,स्पेन,1,स्मृति,1,स्वर्ण अनुपात,1,स्वाईन-फ्लू,1,स्वास्थ्य,2,स्‍वास्‍थ्‍य और खानपान,1,स्वास्थ्य चेतना,3,हमारे वैज्ञानिक,4,हरित क्रांति,1,हंसी के फायदे,1,हाथरस कार्यशाला,1,हिंद महासागर,1,हृदय रोग,1,होलिका दहन,1,ह्यूमन रोबोट,1,
ltr
item
Science Bloggers' Association: चमत्कारों के रहस्य!
चमत्कारों के रहस्य!
http://2.bp.blogspot.com/-s6GpK3hutwM/T_09qTwgYQI/AAAAAAAACfM/sUJucLNZT5g/s320/Chamatkar.jpg
http://2.bp.blogspot.com/-s6GpK3hutwM/T_09qTwgYQI/AAAAAAAACfM/sUJucLNZT5g/s72-c/Chamatkar.jpg
Science Bloggers' Association
https://blog.scientificworld.in/2011/07/blog-post_12.html
https://blog.scientificworld.in/
https://blog.scientificworld.in/
https://blog.scientificworld.in/2011/07/blog-post_12.html
true
1415300117766154701
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy